उत्तर प्रदेशख़बर

योगी सरकार की कोशिशें कामयाब, यूपी में कोरोना अब चंद दिनों का मेहमान!

लखनऊ.

corona in up Latest Update: उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण को लेकर राहत भरी खबर है। यहां रिकवरी दर में काफी सुधार आया है और वर्तमान समय में यूपी की रिकवरी दर बढ़कर 90.6 प्रतिशत तक पहुंच गई है और यहां सक्रिय मामले भी 56 फीसदी कम हुए हैं। पाॅजिटिविटी दर भी 3.12 प्रतिशत रही है। हालांकि एक तरफ जहां संक्रमण से रिकवरी दर बढ़ी है तो वहीं ब्लैक फंगस प्रदेश में तेजी से पांव पसार रहा है। इसका खतरा लगातार बढ़ रहा है। यूपी में ब्लैक फंगस के अब तक 150 मामले मिल चुके हैं। जबकि लखनऊ में पिछले 24 घंटे में 4 मौतें हो चुकी हैं। लखनऊ, मेरठ और वाराणसी में ब्लैक फंगस के मामले सबसे अधिक हैं।

कोरोना की दूसरी लहर में जहां संक्रमण ने तेजी से पांव पसारा वहीं मौतों के आंकड़े भी काफी बढ़ गए। इसपर रोक लगाने के लिये कोरोना कर्फ्यू जैसे कड़े प्रतिबंध और ट्रेसिंग व टेस्टिंग जैसे कई उपायों को अपनाकर हुई कोशिशें रंग लायीं। बीते 24 घंटों में यूपी में संक्रमण के सिर्फ 8,727 मामले आए। जबकि 21,108 कोरोना संक्रमित इलाज के बाद डिस्चार्ज हुए। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में कोरोना के 1, लाख 36 हजार 342 सक्रिय मामले हैं, जिनमें 99 हज़ार 891 होम आइसोलेशन में है। हालांकि 30 अप्रैल को सक्रिय मामले इससे कहीं अधिक 3 लाख 10 हजार 783 थे। अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल के मुताबिक यूपी ने एग्रेसिव टेस्टिंग की नीति अपनाकर 17 मई को ही 4.5 करोड़ से अधिक टेस्ट कर लिये, जो देश किसी भी स्टेट के मुकाबले कहीं अधिक है।

एक तरफ जहां कोरोना संक्रमण से रिकवरी की दर लगातार सुधर रही है तो वहीं ब्लैक फंगस नई परेशानी बनकर उभर रहा है। सबसे ज्यादा 55 मरीज लखनऊ में मिले हैं, जबकि सबसे अधिक 7 मौतें भी वहीं हुई हैं। केजीएमयू में बीते 24 घंटे में 4 मौतें हुई हैं। अकेले केजीएमयू में ही 34 मरीज भर्ती हैं। हालांकि लखनऊ में ज्यादातर भर्ती मरीज बाहर के हैं। मेरठ में भी ब्लैक फंगस तेजी से बढ़ रहा है यहां अब तक 52 मामले सामने आ चुके है और अब तक 4 की मौत हुई है। अकेले मंगलवार को 24 नए मामले सामने आए। उधर वाराणसी में भी एक मरीज की मौत हो चुकी है और अब तक करीब 30 मामले यहां बताए जा रहे हैं। कानपुर में भी इसके केस सामने आ रहे हैं। एक सप्ताह में इनकी रफ्तार काफी बढ़ी है।

इसकी रोकथाम और इलाज को लेकर मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य महकमे को अलर्ट कर दिया हे। स्वास्थ्य विभाग की एक्पर्ट कमेटी से इसको लेकर प्वाइंट ऑफ ट्रीटमेंट, प्रोटोकाॅल और इलाज के लिये जरूरी बातों और इलाज के लिये अस्पताल में क्या-क्या व्यवस्थाएं होनी चाहियें जैसे बिंदुओं पर मुख्यमंत्री ने पूरी रिपोर्ट तलब की है।

 

Back to top button