उत्तर प्रदेशख़बर

UP में माफियाराज का खात्मा, योगी ने 4 साल में सबको साफ किया

4 मई की सुबह चित्रकूट जिला जेल में हुए गैंगवार में कैराना पलायन के मुख्य आरोपित मुकीम काला और पूर्वांचल के Mafia विधायक मुख्तार के भांजे और गैंग सदस्य मेराज अली की शार्प शूटर अंशु दीक्षित ने हत्या कर दी। इसके साथ ही हत्यारे अंशु दीक्षित को भी पुलिस मुठभेड़ के The End यानि ढेर कर दिया गया। हम इस घटना का जिक्र इसलिए कर रहे है क्योंकि जब 2017 में योगी आदित्यनाथ प्रदेश के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर विराजमान हुए थे तब उन्होंने कड़े शब्दों में उत्तर प्रदेश के अपराधियों को चेतावनी दे दी थी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अपराधी या तो अपराध छोड़ देगा या यूपी छोड़ देगा। वह जिस भाषा में समझेगा उसे उसी की भाषा में समझाया जाएगा। शायद इतिहास में ये पहली बार हुआ था जब कोई मुख्यमंत्री ऐसे शब्दों में अपनी बात कह रहा था, यहां तक कि चेतावनी देने के अलावा योगी सरकार ने यूपी पुलिस को ‘फ्री हैंड’ भी दे दिया।

फलस्वरूप, UP पुलिस ने अपनी भाषा में बदमाशों को समझना शुरू कर दिया और हर रोज प्रदेश से एनकाउंटर के मामले सामने आने लगे। यूपी पुलिस की इस कार्रवाई ने Mafia Nexus की कमर तोड़ दी। प्रदेश के Mafia खुद को जेल में ज्यादा सुरक्षित महसूस करने लगे। यकीन मानिए, कुछ ने तो ख़ुद ही पुलिस को सरेंडर कर दिया, क्योंकि उनको डर था कि अगर बाहर रहें तो पुलिस एनकाउंटर के भेट चढ़ जाएंगे।

कैसे हुआ UP में Mafia Raj का The End?
बता दें कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने बड़ी सिस्टमाइज तरीके से माफिया सरगना की कमर तोड़ दि है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के माफियों को पहले राजनीतिक संरक्षण प्राप्त था पर अब ऐसा नहीं रहा। दिल्ली के कुख्यात बदमाश शिव शक्ति नायडू को मेरठ में मार गिराया गया था। माना जाता है कि शिव शक्ति ने फिल्म अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा से करोड़ों रुपए लूटे थे।

शुक्रवार के चित्रकूट जिला जेल के गैंगवॉर में मुकीम काला की मौत हो गई है। आपको बता दें कि, काला जेल में बैठकर ही अपने शूटरों से वारदात करवाता था। मुख्यतौर पर वो पश्चिमी उत्तर प्रदेश के व्यापारियों से वसूली करके उनके नाक में दम कर दिया था। मुकीम काला के अलावा योगी सरकार में कुख्यात सुशील मूंछ और भूपेंद्र बाफर को भी जेल भेज दिया था। जब ढाई लाख के इनामी बदन सिंह बद्दो की पुलिस कस्टडी से फरार हो गया था तो यूपी सरकार ने उसके बंगले पर बुलडोजर चलवा दिया था। अब ऐसा आलम है कि यूपी के बदमाश ना जेल में रहना चाहते है और न ही बाहर।

हाल ही में नोएडा के नामी गिरामी बदमाश बलराज भाटी को भी यूपी एसटीएफ ने मार गिराया था। उसके अलावा मुकीम काला के भाई वसीम काला और शूटर साबिर जंधेड़ी को भी एनकाउंटर में ढेर कर दिया गया। इसी कड़ी में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुख्यात अपराधी जैसे हिमांशु नरसी और आदेश बालियान को एनकाउंटर में मार गिराया गया है।

इस मामले में जानकारी देते हुए एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने दैनिक जागरण से कहा कि,”बदमाशों को किसी भी तरह से पनपने नहीं दिया जाएगा। योगी सरकार के चार साल के कार्यकाल में 135 से भी ज्यादा एनकाउंटर किये गए हैं। सबसे ज्यादा मुठभेड़ वेस्ट यूपी में हुई हैं। वहां पर कुख्यातों का पूरी तरह से The End कर दिया है। कई बदमाशों की अवैध संपत्ति भी जब्त कर ली गई। सरकार की प्राथमिकता यूपी में कानून का राज कायम करने की है।”

कुछ महीनों पहले जब योगी आदित्यनाथ इंडिया टुडे के कॉन्क्लव में गए थे तो उन्होंने अपराधियों के एनकाउंटर के सवाल का जवाब देते हुए कहा था कि, “अगर सरेआम कोई बदमाश पुलिसकर्मी पर हमला करता है तो उसकी पूजा तो नहीं होनी चाहिए। देखिए, जीने का अधिकार सबको है, लेकिन अगर कोई किसी दूसरे के जीने का अधिकार छिनता है तो उसके साथ वैसा ही व्यवहार किया जाना चाहिए।”

Back to top button