जरा हट के

शहीद की बेवा ने दिया बेटे को जन्म, बोली- उनका अधूरा काम ये पूरा करेगा

फरवरी में हुए पुलवामा हमले के शहीदों के परिवार की मार्मिक कहानियां हर रोज हमारे सामने आ रही हैं। आज भी एक ऐसी महिला की कहानी हम आपको बता रहे हैं जिसने देश के लिए अपना पति खोया और अब बेटे को भी भेजने की बात कही है।

दरअसल 5 दिसंबर, 2018 को एटा के जलेसर क्षेत्र के गांव रेजुआ के रहने वाले राजेश यादव पाकिस्तानी सेना के हमले में जम्मू-कश्मीर में शहीद हो गए थे। राजेश अपने माता-पिता की इकलौते संतान थे। उस वक्त शहीद की पत्नी गर्भवती थीं। राजेश की शहादत के बाद पूरा परिवार महीनों तक शोक में था। मां-बाप ने अपना इकलौता बेटा खो दिया था तो बीवी ने अपना पति। एक तरफ पत्नी रीना को अपने पति के जाने का गम सताये जा रहा था तो दूसरी तरफ कोख में पल रहे बच्चे के भविष्य की चिंता भी थी।

पिछले महीने परिवार में थोड़ी खुशी वापस आई, जब राजेश की पत्नी रीना ने एक सुंदर एवं स्वस्थ बालक को जन्म दिया। शहीद के मां-बाप के चेहरे पे हल्की सी मुस्कुराहट दिखाई दी। पिता नेमसिंह के अनुसार नाती के रूप में उनका बेटा वापस आ गया है तो वहीं शहीद की मां रामवती के लिए ये बेटे से भी दुलारा है। इकलौते बेटे को खोने के ग़म में दिन प्रतिदिन शोक मनाने वाले परिवार में खुशियों की छोटी सी बारात आई है।

शहीद की विधवा पत्नी ने बेटे के जन्म के बाद कहा कि वो अपने लाल को सेना में भेजेगी ताकि वहां जाकर अपने पापा की शहादत का बदला ले सके।

Back to top button