गैजेट ज्ञान

WhatsApp की तानाशाही पॉलिसी से नाराज हुए यूजर्स, धड़ाधड़ डाउनलोड कर रहे Signal

वॉट्सऐप (WhatsApp) के नए नियम और शर्तों ने यूजर्स (Users) के सामने खासी मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। यूजर्स के बीच एक डर का माहौल भी देखा जा रहा है और दूसरे ऑप्शन (Option) भी तलाशे जा रहे हैं। जिसमें उनकी प्राइवेसी (Privacy) पर कोई खतरा न हो और ऑपरेट (Oparate) करने में किसी तरह की परेशानी न हो।

इस बीच, खबर आई कि सिग्नल मैसेंजर (signal massenger) को दुनियाभर में लोग पसंद कर रहे हैं। पिछले दो दिन से यूजर्स की संख्या बढ़ने से सिग्नल मैसेंजर (signal massenger) पर वैरीफिकेशन (verification) कोड लेट आ रहे हैं। इस मैसेजिंग प्लेटफाॅर्म (messaging platform) ने यूजर्स को जुड़ने के लिए एक गाइडलाइन (Guideline) जारी की, जो दूसरे मैसेंजर ऐप (massenger app) से सिग्नल पर मूव (move) करने के स्टेप्स बता रही थी।

Whatsapp की नई पॉलिसी में दादागिरी: दरअसल, वॉट्सएप (WhatsApp) की ओर से बुधवार को यूजर्स को पॉप-अप ( pop-up) मैसेज भेजे गए। इसमें यूजर्स को नियम और शर्तों के साथ नई प्राइवेसी पॉलिसी (private policy) के बारे में बताया गया। नए नियम 8 फरवरी से लागू होंगे। मैसेज में बताया जा रहा है कि WhatsApp किस तरह से आपका डेटा यूज करेगा। WhatsApp के यूज के लिए इन नियम और शर्तों को एक्सेप्ट (accept) करना होगा। इसे एक्सेप्ट (accept) नहीं करने पर यूजर्स का अकाउंट डिलीट (account delete) कर दिया जाएगा।

टेस्ला के सीईओ ने सिग्नल से जुड़ने की अपील की: वॉट्सऐप के इस एनाउंसमेंट के बाद यूजर्स खासे परेशान हैं। वे सिग्नल और टेलीग्राम जैसे अन्य मैसेंजर ऐप्स पर जाने के लिए तैयार हो रहे हैं। इस संबंध में टेस्ला के सीईओ और दुनिया के सबसे अमीर बिजनेसमैन एलोन मस्क ने गुरुवार को नए यूजर्स को सिग्नल से जुड़ने की अपील की।

सिग्नल नहीं मांगता पर्सनल डेटा, सिर्फ आपका फाेन नंबर स्टोर करता: सिग्नल ने दिसंबर 2020 में अपने लेटेस्ट वर्जन्स के साथ ग्रुप कॉल लॉन्च किया है और एन्क्रिप्टेड दिया है। सिग्नल पर्सनल डेटा के तौर पर सिर्फ आपका फोन नंबर स्टोर करता है और ऐप इसे आपकी पहचान से जोड़ने की कोई कोशिश नहीं करता है। जबकि टेलीग्राम आपसे पर्सनल इनफॉर्मेशन के तौर पर कॉन्टैक्ट इंफो, कॉन्टैक्ट्स और यूजर ID मांगता है।

सिग्नल ने नए लोगों के लिए गाइडलाइन जारी की: गुरुवार को सिग्नल ने ट्वीट किया कि कई प्रोवाइडर्स के पास वैरीफिकेशन कोड लेट आए क्योंकि नए लोग मैसेजिंग प्लेटफॉर्म से जुड़ने की कोशिश कर रहे थे। कंपनी ने एक गाइडलाइन भी शेयर की है जो यूजर्स को अन्य मैसेंजर ऐप से सिग्नल जॉइन करने के बारे में बताती है। सिग्नल ने गाइडलाइन में अन्य मैसेंजर ऐप के संबंध में वॉट्सएप का नाम नहीं लिया। हालांकि, वॉट्सऐप की नई पॉलिसी और कस्टमर के बीच परेशानी को देखते हुए सिग्नल की गाइडलाइन और ट्वीट तस्वीर को काफी हद तक साफ करते हैं।

दो ऐप्स के बीच अपनी चैट ट्रांसफर नहीं कर पाएंगे: सिग्नल की नई गाइडलाइन में सिर्फ एक मैसेंजर ऐप से दूसरे मैसेंजर पर कस्टमर को मूव करना बताया गया। यहां ध्यान देना होगा कि आप दो ऐप्स के बीच अपनी चैट को ट्रांस्फर नहीं कर सकते हैं। दरअसल, सिग्नल ने ट्वीट किया है कि बहुत से लोग पूछ रहे हैं कि अन्य ऐप से अपने ग्रुप चैट को कैसे ट्रांसफर किया जाए। सिग्नल ग्रुप लिंक शुरू करने के लिए एक शानदार हैं। यह वैसा ही है, जैसे आप माइक को बाहर जाने पर छोड़ रहे हैं।

हम आपको बताएंगे- कैसे आप सिग्नल जॉइन कर सकते हैं-
– सिग्नल पर सबसे पहले एक ग्रुप (Group) बनाएं।
– ग्रुप सेटिंग्स पर जाएं और ग्रुप लिंक (Group link) पर टैप करें।
– ग्रुप लिंक क्रिएट के लिए टॉगल (Toggle) ऑन करें और शेयर पर टैप करें।
– इसके बाद अपने पसंद के पुराने मैसेंजर ऐप पर शेयर करें।

ग्रुप बनने के बाद यह करें
– जो लोग ग्रुप से जुड़ना चाहते हैं, उन लोगों के पास लिंक को शेयर किया जा सकता है।
– ग्रुप में नए मेंबर्स को अप्रूव करने के लिए टॉगल ऑन/ ऑफ करना होगा। शेयर लिंक के जरिए नए मेंबर्स की इसमें रिक्वेस्ट आएंगी।
– नए मेंबर्स को एड करने से पहले आपको ग्रुप एडमिन से अप्रूवल लेना पड़ेगा।
– अगर आपको लगता है कि ग्रुप से जुड़ने के लिए लिंक को ज्यादा शेयर कर दिया गया है तो बदलने के लिए इसे रीसेट करना होगा।

ध्यान देने वाली बात- माइग्रेट ग्रुप्स पर लिंक शेयर करना हमारी प्राइवेसी को लेकर मैसेंजर ऐप बड़ा सवाल हो जाते हैं। हालांकि, इस संबंध में सिग्नल ने कहा है कि लिंक ऑप्शनल हैं और आप किसी भी समय उन्हें रोटेट या या डिसेबल कर सकते हैं।

Back to top button