देश

बेटी को खुद किडनैप कराए बीजेपी नेता, आरोप लगा दिए ममता की पार्टी पर

पश्चिम बंगालः अपनी ही बेटी की किडनैपिंग के आरोप में बीजेपी नेता गिरफ्तार

CM ममता  के गढ़ पश्चिम बंगाल   के बीरभूम जिले में बड़ी वारदात सामने आयी है  बताते चले एक स्थानीय भाजपा  नेता सुप्रभात बटव्याल को अपनी की बेटी के अपहरण की साजिस रची इस मामले में नेता जी को  गिरफ्तार किया गया. इस अपहरण में दो अन्य लोगों को पुलिस ने  गिरफ्तार किया   है. बताते चले इस मामले में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि बटव्याल की बेटी को गुरूवार को बंदूक के बल पर अगवा कर लिया गया था. उसे उत्तर दिनाजपुर जिले से ‘छुड़ाया’ गया. अधिकारी ने बताया कि उत्तर दिनाजपुर पुलिस के साथ एक संयुक्त अभियान में बीरभूम की एक पुलिस टीम ने 22 साल की युवती को रविवार की सुबह दालखोला रेलवे स्टेशन इलाके से बरामद किया.

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने खुलासा कर मीडिया को बताया कि बटव्याल और उनके दो सहयोगियों को उस वक्त गिरफ्तार किया गया जब शुरुआती जांच में संकेत मिले कि अपहरण में उनकी भूमिका है. बीरभूम जिले के पुलिस अधीक्षक श्याम सिंह ने बताया, ‘हमने आज सुबह दालखोला से लड़की को छुड़ाया. वह ठीक है और हम यह पता लगाने के लिए उससे बात कर रहे हैं कि असल में हुआ क्या था. हमने लड़की के पिता को भी गिरफ्तार कर लिया है, क्योंकि हमें लगता है कि उसने अपहरण में अहम भूमिका निभाई है.’

एक अधिकारी ने बताया कि 22 वर्षीय युवती का पता लगाने के लिए बीरभूम पुलिस ने उत्तर दिनाजपुर पुलिस के साथ एक संयुक्त अभियान चलाया. रविवार सुबह युवती के डलखोला इलाके में होने का पता चला. उन्होंने बताया कि दो आरोपियों राजू सरकार और दीपांकर मंडल को रविवार को गिरफ्तार किया. बाद में शुरुआती जांच से पता चला कि बेटी के अपहरण में बटब्याल का हाथ था. इसके बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया.


बीरभूम जिले के पुलिस अधीक्षक श्याम सिंह ने बताया

‘हमने आज सुबह डलखोला से लड़की को छुड़ाया. वह ठीक है और हम यह पता लगाने के लिए उससे बात कर रहे हैं कि असल में हुआ क्या था. हमने लड़की के पिता को भी गिरफ्तार कर लिया है, क्योंकि हमें लगता है कि अपहरण में उनकी अहम भूमिका है.’

अपहरण के पीछे की मंशा के बारे में पूछने पर सिंह ने कहा, ‘इसके दो कारण हो सकते हैं एक तो पारिवारिक समस्या और दूसरा राजनीतिक फायदा. हम मामले की जांच कर रहे हैं. हम तीनों से पूछताछ कर रहे हैं.’

राजू सरकार मकान बनाने वाले मिस्त्री का काम करता है,

मामले में गिरफ्तार किया गया राजू सरकार मकान बनाने वाले मिस्त्री का काम करता है, जबकि मंडल ग्रिल फैक्ट्री में नौकरी करता है. सरकार और मंडल दोनों दार्जीलिंग जिले के नक्सलबाड़ी के रहने वाले हैं. इन दोनों ने बटब्याल के घर पर काम किया था और अपहरण की घटना के एक दिन पहले दोनों ने बटब्याल से मुलाकात की थी.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जांच से पता चला कि अपहरण के दौरान किसी तरह का विरोध नहीं हुआ. पड़ोसियों ने भी घटना के दौरान किसी तरह का कोई शोरगुल नहीं सुना. शनिवार की रात को पुलिस ने बटब्याल को हिरासत में लेकर पूछताछ की, उसके बाद उनकी बेटी की लोकेशन का पता चला. बीजेपी में शामिल होने से पहले बटब्याल टीएमसी में जिला कमेटी के सदस्य थे. बीजेपी के जिला स्तर के नेताओं का कहना था कि घटना में टीएमसी के गुंडों का हाथ है.

Back to top button