देश

Video : आसमान में दिखी रोशनी की लकीर, अमेरिकी बोले- एलियंस ने अटैक कर दिया!

Elon Musk की कंपनी SpaceX के हालिया सैटलाइट लॉन्च चर्चा का विषय रहे हैं। लॉस ऐंजिलिस में रॉकेट का पेलोड कक्षा में पहुंचने के बाद धरती से दिख रहा था। इससे निकली रोशनी को देखकर लोग हैरान रह गए और सोचने लगे कि आखिर यह है क्या। कई लोगों ने इसे UFO तक समझ लिया जबकि ये 60 स्टारलिंक सैटलाइट प्रक्षेपित करने जा रहे Falcon 9 रॉकेट का लॉन्च था। अब तक कंपनी 1000 से ज्यादा सैटलाइट लॉन्च कर चुकी है।

LA की घटना पर ऐस्ट्रोनॉमर डॉ. जेम्स डेवेनपोर्ट ने बताया, ‘वे निचली कक्षा में थे और एक-साथ जुड़े थे, इसलिए इसे स्टारलिंक ट्रेन कहा जा रहा है। आपको जो दिख रहा है वे सैटलाइट चैन है जो आपस में करीब हैं और सूरज की रोशनी को रिफ्लेक्ट कर रही हैं।’ स्पूतनिक न्यूज के मुताबिक लॉन्च से अमेरिका के वेस्ट कोस्ट पर लोग डर गए और इसे एलियन हमला तक मान लिया गया।

Starlink के जरिए मस्क की कंपनी आसमान में सैटलाइट्स का जखीरा भेजने की कोशिश में है जिससे ऐस्ट्रोनॉमर्स को चिंता है कि फिर अंतरिक्ष को ऑब्जर्व करने में रुकावट पैदा न हो और इतनी ज्यादा संख्या में स्पेस ऑब्जेक्ट्स से टक्कर का खतरा भी हो सकता है।

कुछ वक्त पहले अमेरिकी उत्तर पश्चिम प्रशांत क्षेत्र में टूटते तारे की तरह कंपनी के रॉकेट का मलबा गिरता देखा गया था। उसके बाद वॉशिंगटन के एक फार्म में रॉकेट का मलबा गिरने से ये लॉन्च विवादों में आ गए थे।

स्पेस इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स का मानना है कि मस्क की कंपनी ऐसा करके स्पेस ऑब्जेक्ट्स के बीच टक्कर की आशंका को बढ़ा रही है। इससे अंतरिक्ष में और ज्यादा कचरा पैदा होगा। SpaceX के स्टारलिंक ने करीब 1300 सैटलाइट कक्षा में प्रक्षेपित किए हैं और 2027 तक 40 हजार से ज्यादा सैटलाइट्स भेजने का प्लान है।

स्टारलिंक ने पहले कहा है कि सैटलाइट आयन ड्राइव के जरिए किसी और स्पेस ऑब्जेक्ट से टक्कर से बच सकती हैं लेकिन अगर सैटलाइट्स का संपर्क या ऑपरेशन कक्षा में फेल हो जाता है जो वे स्पेस ट्रैफिक के लिए खतरा हो सकती हैं।

Back to top button