उत्तर प्रदेश

UP में कोरोना: मरने के बाद मोक्ष का इंतजार, अस्थियां भी नहीं ले जा रहे परिजन, कई जगह लॉकर फुल

कोरोना ने हमें अपनों से दूर कर दिया। बहुत दूर… इतना कि अब लोग राख बन चुके शरीर से भी डरने लगे हैं। ये डर उस राख से है, जिसने कुछ समय पहले तक हमें अपनी परंपराओं और आस्थाओं के साथ जोड़ रखा था। इस डर ने उसे भी खत्म कर दिया है। तभी तो श्मशान घाटों पर अब लोग अपनों की अस्थियां लेने भी नहीं पहुंच रहे।

पूरे उत्तर प्रदेश में ऐसे 3 हजार से भी ज्यादा मामले हैं। हां, इनमें कुछ ऐसी भी अस्थियां हैं जिन्हें लेने वाला कोई अब इस दुनिया में ही नहीं बचा। जो तस्वीरें हम आपको दिखा रहे हैं वही अंतिम सत्य है। इसे अंतिम कलश कहें या अस्थि कलश… ये आप तय करें। इतना जरूर है कि ये तस्वीरें डर के आगे इंसानियत और रिश्तों की खत्म होती अहमियत को बयां कर रही हैं। उस सच्चाई से भी रुबरू करा रही है जिसे ‘सिस्टम’ नाम दिया गया है।

फिरोजाबाद : 350 से ज्यादा अस्थियों को मोक्ष की दरकार

फोटो फिरोजाबाद की है। यहां श्मशान में 350 से ज्यादा कलश रखे हुए हैं।

धार्मिक मान्यता है कि पितृ पक्ष में तर्पण, श्राद्ध और अस्थि विसर्जन करने से पूर्वजों को मोक्ष मिलता है। लेकिन फिरोजाबाद की ये तस्वीर देखने के बाद यही लग रहा कि महामारी से जान गंवाने वालों को अब मोक्ष मिलना भी आसान नहीं। स्वर्गाश्रम विकास समिति के सचिव आंलिक अग्रवाल बताते हैं कि शमशान घाट में 350 से ज्यादा अस्थि कलश रखे गए हैं जिन्हें कोई लेने नहीं आ रहा है।

समिति के कोषाध्यक्ष प्रदीप अग्रवाल बताते हैं कि कई लोगों से संपर्क कर अस्थि कलश ले जाने के लिए कहा गया, लेकिन कोई नहीं आया। कमेटी अब इन अस्थि कलशों को विधि विधान के साथ गंगा में प्रवाहित करा रही है। समिति के अध्यक्ष राकेश गोयल बताते हैं कि कुछ लोगों की अस्थियां इसलिए लेने कोई नहीं आया, क्योंकि उनके घरों में कोई बचा ही नहीं है।

नोएडा : अंतिम निवास के सभी लॉकर फुल, अब घाट के पंडित खुद करेंगे विसर्जन

नोएडा के अंतिम निवास में अस्थियों को रखने के लिए 200 लॉकर बने हैं। सभी फुल हैं।

गौतमबुद्ध नगर यानी नोएडा के शवदाह गृह में भी अंतिम संस्कार के बाद लोग अस्थियां लेने नहीं पहुंच रहे। शवदाह गृह में अस्थियां रखने के लिए बने लॉकर भर गए हैं। अब बाकी लोगों की अस्थियां जहां जगह मिल रही वहीं रख दी जा रही हैं।

सेक्टर 94 ए में स्थित अंतिम निवास का संचालन करने वाले NGO के अधिकारियों ने बताया कि यहां अस्थियां रखने के लिए 200 लॉकर हैं। लेकिन इस वक्त सभी भरे हुए हैं। कई और अस्थि कलश बाहर रखे हुए हैं। सबको पहचान का नंबर देते हुए अलग-अलग कमरों में व्यवस्थित तरीके से रखा गया है। यदि कोई नहीं आता है तो रीति रिवाज के अनुसार इनका विसर्जन करा दिया जाएगा।

अलीगढ़ : 40 लोगों की अस्थियां अपनों के इंतजार में

अलीगढ़ के शवदाह गृह में रखी गईं अस्थियां।

शहर के नुमाइश मैदान में बने शवदाह गृह में पिछले 1 महीने के अंदर 150 से ज्यादा लोगों का अंतिम संस्कार हुआ। इनमें से 40 से ज्यादा लोगों की अस्थियां अभी भी शवदाह गृह में ही पड़ी हैं। इन्हें कोई लेने वाला नहीं आया। शवदाह गृह के कर्मचारी हर रोज लोगों से पूछते हैं, लेकिन कोई जवाब नहीं मिलता।

बरेली: कोई डर रहा तो किसी के यहां अस्थियां लेने वाला भी नहीं बचा

फोटो बरेली के शवदाह गृह की है। यहां करीब 80 लोगों की अस्थियां रखी हैं, जिन्हें कोई लेने नहीं आ रहा।

शहर की सबसे बड़ी सिटी श्मशान भूमि के केयर टेकर पंडित त्रिलोकी नाथ बताते हैं कि इस साल अप्रैल और मई के महीने में कोरोना से जान गंवाने वाले 225 लोगों का अंतिम संस्कार कराया गया है। इनमें से 70 से 80 लोगों की अस्थियों को कलश में रखा गया है। बहुत से लोग इन कलशों को लेने से डर रहे हैं तो कहीं ऐसी भी नौबत आ गई है कि घरों में अस्थियों को लेने वाला कोई बचा ही नहीं है। अगर कोई अस्थियां कलश लेने नहीं आता है तो समय मिलते ही इनको विधि-विधान से गंगा में प्रवाहित कर दिया जाएगा।

Back to top button