उत्तर प्रदेशराजनीति

UP चुनाव: ‘सबसे बड़ी सियासी जंग’ के लिए तैयार हो रहे अखिलेश यादव, इन 5 पॉइंट्स में समझे SP का गेमप्लान

लखनऊ :  वैसे तो उत्‍तर प्रदेश में आगामी व‍िधानसभा चुनाव होने में अभी करीब 8 महीने बाकी हैं। लेक‍िन ज‍िस तरह मौजूदा सत्‍ताधारी पार्टी बीजेपी ने चुनाव का माहौल बना द‍िया है उसके बाद सभी पार्टियों ने भी कमर कसनी शुरू कर दी है। हाल फ‍िलहाल में यूपी में बीजेपी को अगर कोई पार्टी टक्‍कर दे सकती है तो वह है समाजवादी पार्टी।

इन द‍िनों यूपी में समाजवादी पार्टी के कार्यालय पर काफी हलचल देखने को म‍िल रही है। पूर्व मुख्‍यमंत्री और एसपी के अध्‍यक्ष अख‍िलेश यादव भी इन द‍िनों काफी सक्रिय द‍िख रहे हैं। चुनाव को लेकर अपनी तैयार‍ियों को वह मीडिया में खुलकर बता भी रहे हैं। पार्टी के सूत्रों के हवाले से समझते हैं यूपी में होने वाले आगामी व‍िधानसभा चुनाव में अख‍िलेश की क्‍या प्‍लान‍िंग है?

1- बीजेपी से मांगेंगे काम का ह‍िसाब
2017 से बीजेपी के सत्‍ता में आने के बाद से ही अख‍िलेश लगातार यह कहते आए हैं क‍ि सरकार ने कोई बड़ा काम नहीं क‍िया है। ऐसा माना जा रहा है क‍ि 2022 के चुनाव में अख‍िलेश यादव बीजेपी पर उनके द्वारा क‍िए गए कामों का ह‍िसाब मांगेंगे। इसके साथ की कोरोना की दूसरी वेव में ज‍िस तरह यूपी में अव्‍यवस्‍था फैली और स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍थाएं चरमरा गईं थी उसको लेकर अख‍िलेश बीजेपी की सरकार को घेरने वाले हैं। समाजवादी पार्टी सूत्रों के मुताबिक अख‍िलेश यूपी सरकार द्वारा स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍था को लेकर क‍िए गए प्रयासों का ह‍िसाब मांगेंगे।


2- बीजेपी की अंदरूनी राजनीत‍ि पर चोट करने की तैयारी

कोरोना की दूसरी वेव और पंचायत चुनाव में बीजेपी के न‍िराशजनक प्रदर्शन के बाद ज‍िस तरह पार्टी में उथल पुथल हुआ और बीजेपी के दर्जनों व‍िधायकों का असंतोष खुलकर सामने आया उस पर अख‍िलेश की नजर रहेगी। एसपी के सूत्रों के मुताबिक अख‍िलेश यादव के संपर्क में बीजेपी के कई व‍िधायक हैं। आपको बता दें बीजेपी इस बार अपने सभी सीट‍िंग व‍िधायकों को फ‍िर से ट‍िकट देगी इसको लेकर संदेह है। समाजवादी पार्टी इन्‍हीं असंतुष्‍टों को पार्टी में शाम‍िल करके अपनी स्‍थ‍ित‍ि मजबूत करने वाली है।

इसके अलावा ज‍िस तरह मीडिया में उप मुख्‍यमंत्री केशव मौर्य, ओबीसी वोटरों और कार्यकर्ताओं की बीजेपी से नाराजगी की बात सामने आ रही है, उसको भी एसपी भुनाने की कोश‍िश करेगी। बीते कुछ द‍िनों में खुद केशव मौर्य भी यह कह चुके हैं क‍ि बीजेपी का यूपी में अगला मुख्‍यमंत्री कौन होगा इसका फैसला संसदीय बोर्ड करेगा यह भी समजवादी पार्टी मुद्दा बनाने वाली है।

3- छोटे दलों के साथ गठबंधन का रहेगा अहम रोल
बीते कुछ द‍िनों में एसपी अध्‍यक्ष अख‍िलेश यादव ने कई टीवी चैनलों को द‍िए गए इंटरव्‍यू में यह बात कही है क‍ि उनकी पार्टी आगामी 2022 के चुनाव में छोट दलों के साथ गठबंधन करेगी। अख‍िलेश ने 2017 में कांग्रेस और बाद में मायावती के साथ गठबंधन के अनुभव को ठीक नहीं बताते हुए कहा है क‍ि 2022 में आरएलडी सह‍ित कई छोटी पार्टियों के साथ गठबंधन की तैयारी में है। ज‍िस तरह यूपी का अगला व‍िधानसभा चुनाव दो बड़ी पार्टियों बीजेपी और एसपी में ही होने की संभावना द‍िख रही है तो ऐसे में एसपी का छोटे दलों का साथ लेकर चलना एक बड़ी भूम‍िका न‍िभा सकता है।

4- चाचा श‍िवपाल की अहम भूम‍िका
अख‍िलेश इस बात को बीते कुछ द‍िनों में कई बार कह चुके हैं क‍ि चाचा श‍िवपाल यादव के ल‍िए जसवंत नगर की सीट तो छोड़ ही देंगे, साथ ही वह कई बार इशारा कर चुके हैं क‍ि उनका पर‍िवार एक बार फ‍िर एकजुट हो चुका है। ऐसे में श‍िवपाल यादव का समाजवादी पार्टी से गठबंधन तय है, इसका फायदा अख‍िलेश को म‍िलने की पूरी संभावना है।

5- बीएसपी की न‍िष्‍क्र‍यता का फायदा!
हालांक‍ि अभी यह तय नहीं हुआ है क‍ि बहुजन समाज पार्टी यूपी में क‍ितने सीटों पर चुनाव लड़ेगी या क‍िसी के साथ गठबंधन करेगी। लेक‍िन यह बात तो तय है क‍ि बीएसपी की न‍िष्‍क्र‍यता की वजह से एससी वोटरों के बंटवारे में अख‍िलेश को ही फायदा म‍िलने वाला है। इसकी एक वजह यह भी है क‍ि बीते द‍िनों में बीएसपी के कई पूर्व व‍िधायक और कार्यकर्ता समाजवादी पार्टी के संपर्क में हैं और पार्टी जॉइन कर रहे हैं।

Back to top button