क्राइम

बाहर से लगाते रूम में ताला और अंदर करते गंदा काम, दोनों दोस्तों की एक साथ मिली लाश

two friends found dead in a closed house at the Village Khwaspur of Tarantaran

नशा जब ज्यादा हो जाता है तो इंसान अपनी सुध-बुध खो देता है. कई बार शराब के नशे के कारण लोग शर्मनाक हरकत को अंजाम दें देते है. नशा चाहे कोई भी हो हानिकारक ही होता है. नशे की लत किस तरह से इंसान को अन्दर ही अन्दर ख़त्म कर देती है उसे पता ही चलता वह बस नशे में डूबे रहना चाहता है और इस बात का पछतावा उसे बाद में ही होता है जब उसकी जिंदगी में कुछ नही बचता. आज हम आपको एक ऐसा ही उदाहरण बताने जा रहे है इस मामले में दो दोस्तों की नशे की लत इस कदर बढ़ गयी की उन्होंने एक दिन फंदे से लटककर जान दे दी.

इस मामले में गांववासियों ने बताया कि ये दोनों दोस्त लंबे समय से नशे के आदी थे. पिंदर सिंह के मां-बाप की करीब पांच साल पहले मौत हो चुकी है। वह अकेला ही अपने घर में रहता था. ज्यादा पढ़ा-लिखा नहीं होने के कारण मेहनत-मजदूरी करता था. उसकी दोस्ती पड़ोसी गांव फतेहबाद निवासी हरदीप सिंह के साथ हो गई. पिंदर के पड़ोसी लखविंदर सिंह, सतनाम सिंह और हरदेव सिंह की मानें तो दोनों युवक घर के बाहर ताला लगाकर घर की दीवार से कूदकर घर के अंदर दाखिल होकर नशा करते थे. हरदीप सिंह का परिवार उसे नशे की लत से निकालना चाहता था, लेकिन दोनों की दोस्ती इलाज में बाधा बनती रही. इस बारे में शिकायत पुलिस प्रशासन को की गई थी. मंगलवार को हरदीप अपने घर से पिंदर सिंह के घर पहुंचा. वहां दोनों आत्महत्या कर ली.

जानिए क्या है मामला

बताते चले तरनतारन जिले के गांव ख्वासपुर में दो युवकों ने फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली. आत्महत्या की वजह भी नशा माना जा रहा है.  वहीं गांव के लोगों का कहना है कि एक-दूसरे के गहरे जिगरी दोस्त ये दोनों घर को बाहर से ताला लगाने के बाद दीवार फांदकर अंदर नशा करते थे. गुरुवार को पुलिस ने दोनों के शवों को पोस्टमॉर्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया. फिलहाल मामले की जांच-पड़ताल जारी है, जिसमें इलाके के कई नशातस्कराें के लपेटे में आने की संभावना है.

इस दर्दनाक घटना का पता उस वक्त चला, जब पिंदर ने अंदर से दरवाजा नहीं खोला तो लोग दीवार को फांदकर घर के कमरे में दाखिल हुए. आनन-फानन में पुलिस को सूचित किया गया. जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच शुरू की तो दोनों युवकों के शव गार्डर के साथ लटके थे। हरदीप सिंह की बाजू पर किसी नुकीली वस्तु से ‘कंवल’ नाम उकेरा हुआ था और बाजू से खून भी निकला हुआ था. कमरे के अंदर पड़े बेड पर नशा करने वाली सीरिंजें बिखरी पड़ी थी. इन्हीं बातों से अंदाजा लगाया जा रहा है कि दोनों युवकों ने नशे की पूर्ति न होने के कारण मृतकों ने गले में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली.

डीएसपी बोले-नशा तस्करों के खिलाफ होगी कार्रवाई
थाना गोइंदवाल के प्रभारी सुखराज सिंह ने बताया कि धारा 174 तहत कार्रवाई करते हुए पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमॉर्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है. कंवल नाम किसका था, यह जांच के बाद पता चलेगा। वहीं डीएसपी राजिंदरपाल सिंह ने कहा कि अगर गांव में कोई भी व्यक्ति नशा बेचता पकड़ा गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने गांववासियों को विश्वास दिलाया कि इस गांव में किसी भी व्यक्ति को नशा बेचने नहीं दिया जाएगा. गांव वालों ने जो नशा तस्करों की लिस्ट पुलिस प्रशासन को सौंपी थी. वह उस पर जल्द कार्रवाई करेंगे.

Back to top button