ख़बरदेश

ओडिशा से बंगाल तक “तितली” ने मचाया कहर, तूफ़ान में बह गए पेड़ और खंभे

ओडिशा से बंगाल तक तितली का टेरर, उखड़ गए पेड़ और खंभे

 

  • ओडिशा से बंगाल तक चक्रवाती तूफान “तितली” ने उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिणी ओडिशा के तटीय तटों तक अपना कहर दिखा रहा है कुछ ही देर में तितली का लैंडफॉल ओडिशा के गोपालपुर में होगा. इस चक्रवाती के आने से पूरे इलाके में हाई अलर्ट कर दिया गया है।

  • ओडिशा से बंगाल तक तितली का टेरर, उखड़ गए पेड़ और खंभे

    गोपालपुर में तूफानी हवाएं 140 से 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से पहुंच रही है, इसकी गति 165 किमी प्रति घंटे तक होने का अनुमान है.

  • ओडिशा से बंगाल तक तितली का टेरर, उखड़ गए पेड़ और खंभे

    जानकारी के मुताबिक गोपालपुर में सुबह साढ़े चार बजे 126 किमी प्रति घंटे और कलिंगपटनम में 56 किमी प्रति घंटे की तेजी से तूफानी हवाएं दर्ज की गईं.

    ओडिशा से बंगाल तक तितली का टेरर, उखड़ गए पेड़ और खंभे

  • तूफान की रफ्तार इतनी ज्यादा है कि गोपालपुर और बेरहमपुर में कई पेड़ उखड़ गए. तेज बारिश भी कई इलाकों में दर्ज की गई है.

  • ओडिशा से बंगाल तक तितली का टेरर, उखड़ गए पेड़ और खंभे

    ओडिशा सरकार ने तूफान के चलते 11 और 12 तारीख को स्कूल-कॉलेज बंद रखने का फैसला किया है. इसके अलावा तूफान से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने के लिए ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने एक उच्चस्तरीय बैठक भी की है.

  • ओडिशा से बंगाल तक तितली का टेरर, उखड़ गए पेड़ और खंभे

    उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिणी ओडिशा के तट पर ‘तितली’ के प्रभाव को देखते हुए कई ट्रेनों को रद्द किया गया है तो वहीं कुछ के रूट में बदलाव किया है.

  • ओडिशा से बंगाल तक तितली का टेरर, उखड़ गए पेड़ और खंभे

    मौसम विभाग ने कहा कि गंजम, गजपति, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, खुर्दा, नयागढ़, कटक, जाजपुर, भद्रक, बालासोर, कंधमाल, बौंध और ढेंकनल में गुरुवार तक तेज से मूसलाधार बारिश होने की आशंका है.

 

Back to top button