क्राइम

घर पर अकेली थी नाबालिग बहन, अचानक आ धमका चचेरा भाई, कमरा किया बंद फिर…

Image result for घर पर अकेली थी नाबालिग बहन अचानक आ धमका चहेरा भाई, कमरा किया बंद फिर...

शिमला । जिला शिमला के रामपुर उपमंडल के झाकड़ी थाना क्षेत्र में नाबालिग चचेरी बहन के साथ दुष्कर्म करने के आरोप साबित होने पर अदालत ने दोषी को दस साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। दोषी पर 10 हजार रुपये का जुर्माना भी किया गया है . जुर्माना अदा न करने की सूरत में दोषी को एक वर्ष का साधारण कारावास भुगतना होगा। रामपुर स्थित जिला एवं सत्र न्यायाधीश किन्नौर की विशेष अदालत ने गुरुवार को यह फैसला सुनाया।

पुलिस थाना झाकड़ी में दर्ज मामले के मुताबिक 15 वर्षीय नाबालिग पीड़िता ने  नवंबर 2016 को जब वह अपने घर में अकेली थी, तो उसका चचेरा भाई सुमित शर्मा वहां आया और उसके साथ दुष्कर्म किया। आरोपी ने इसका खुलासा करने पर उसे जान से मारने की धमकी भी दी। डर के कारण नाबालिग ने यह बात किसी को नहीं बताई।

आरोपी लगातार तीन माह तक दुराचार करता रहा। इस दौरान जब पीड़िता गर्भवती हो गई। बाद में जब पीड़िता गर्भवती हो गई, तो पीड़िता ने आपबीती परिजनों को बयां कर दी। पीड़िता के परिजनों की शिकायत पर 24 जुलाई 2017 को पुलिस थाना झाकड़ी में आपराधिक धाराओं 342 व 376 तथा पोक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया।

इसके बाद मामला कोर्ट में चला। सरकार की ओर से मामले की पैरवी जिला न्यायवादी सुरेश हेटा ने की। रामपुर स्थित जिला एवं सत्र न्यायाधीश किन्नौर की अदालत ने दोनों पक्षों के बयान और गवाहों को सुनने के बाद गुरुवार को दोषी सुमित को दस साल के कठोर कारावास और 10 हजार रुपये जुर्माना की सजा सुनाई।  वहीं  जुर्माना अदा न करने की सूरत में दोषी को एक साल का साधारण कारावास भुगतना होगा।

Back to top button