सेहत

काम की खबर : क्या आप भी सेहत के साथ कर रहे ये खिलवाड़, तो अभी संभल जाईये आप

यूरीन शरीर की सामान्य प्रक्रिया है, जिसे महसूस होने पर एक से दो मिनट के अंदर निष्कासित कर देना चाहिए। वैसे तो ब्लैडर के भरने पर स्वत: प्रतिक्रिया तंत्र आपके मस्तिष्क को बॉशरूम जाने का संकेत भेजती है। पसीने की तरह यूरीन के माध्यम से भी शरीर के गैर जरूरी तत्व बाहर निकलते हैं। यदि वह थोड़े समय भी अधिक शरीर में रहते हैं तो संक्रमण की शुरुआत हो सकती है।

अक्सर लोग व्यस्तता के चलते या फिर जानबूझ कर यूरीन (मूत्र) रोके रहते हैं। यूरीन रोकना हेल्थ के लिए सबसे खतरनाक चीज होती है। यूरीन रोकने से आपका ब्लैडर बैक्टीरियों को अधिक विकसित करता है जिससे कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होती हैं। हम आपको बता रहे हैं कि यूरीन को ज्यादा देर तक रोक कर रखने से क्या नुकसान होता है। आइए जानें यूरीन को रोकने से शरीर पर किस प्रकार का प्रभाव पड़ सकता है।

 

हर कोई व्यक्ति यह बात नहीं जानता होगा कि पेशाब को रोकने से हमारा ब्लैडर भी खराब हो सकता है.हमे अपने  ब्लैडर को हमेशा के लिए सुरक्षित रखने के लिए हमेशा पानी पीते रहना चाहिए साथ ही समय-समय पर पेशाब भी करते रहना चाहिए.

 

 

पानी की उचित मात्रा को अपने शरीर में बरकरार रखने के लिए पानी की बहुत ही आवश्यकता होती हैं, इन्हीं में कुछ लोग ऐसे भी देखें जाते हैं जो कि पानी पीने में भी कंजूसी बरते हैं और फिर इस तरह के लोगों को पेशाब भी कम आता है परंतु वह इसके नुकसान के बारे में नही जानते हैं कि पेशाब कम आने से शरीर के हानिकारक तत्व बाहर नहीं निकलते हैं और अंदर एक बड़ी बिमारी का रुप धारण कर लेते हैं.

 

 

यदि आप इस  पूरी खबर को पढ़ने से समझ गये हैं कि पेशाब करने के क्या-क्या नुकसान होते हैं ,तो ध्यान रखें कि कभी गलती सेअपने पेशाब को ना रोकें और शरीर में पानी की मात्रा को बरकरार रखें.

Back to top button