देशराजनीति

भाजपा को हराने के लिए बुआ-बबुआ की जोड़ी की काफी : तेजस्वी

Tejashwi Yadav, Akhilesh Yadav

लखनऊ : आगामी लोक सभा चुनाव के पहले सियासी माहौल गरमा गया है. सभी राजनीतिक पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है. हाल में ही सपा-बासप गठबंधन के बाद यूपी में भाजपा के लिए एक बड़ी परेशानियो का दौर शुरू हो गया है. इस बीच कांग्रेस ने भी अकेले यूपी में 80 सीटो पर  चुनाव का ऐलान कल यानि रविवार को कर दिया है. इसी साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी नेताओं का मिलना-जुलना जारी है.

महागठबंधन की एकता को बढ़ाने के लिए पिछले कुछ दिनों में कई तरह के समीकरण सामने आए हैं.  उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से बसपा-सपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, जबकि 2 सीटें अन्य पार्टी के लिए छोड़ी गई है. वहीं, अमेठी-रायबरेली सीट को कांग्रेस के लिए छोड़ा गया है.

ये बात अलग है कि छोटे दलों के साथ तालमेल की संभावना को दरकिनार नहीं किया है। इस बीच बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने राज्य में राजद, एसपी और बीएसपी के बीच तालमेल की वकालत की है।

इस सिलसिले में यूपी की राजधानी लखनऊ में थे। उन्होंने कहा कि एसपी और बीएसपी के बीच गठबंधन के लिए वो अखिलेश जी और मायावती जी को बधाई देते हैं। ये राष्ट्रहित में था। देश में आज जो कुछ हो रहा है उन हालातों का सामना करने के लिए मजबूत विपक्ष का होना जरूरी है। जो लोग अंग्रेजों के गुलाम थे आज वो इस देश पर राज कर रहे हैं।

​तेजस्वी यादव ने कहा कि सच ये है कि सीबीआई और ईडी अब जांच एजेंसियां नहीं रह गई हैं। ये दोनों जांच एजेंसियां अब बीजेपी के साथ गठबंधन कर चुकी हैं। लालू जी आज जेल में इस वजह से हैं क्योंकि मोदी ने उन्हें खुद के लिए चुनौती के रूप में देखा था। उन्होंने कहा कि बीजेपी की बुनियादी धारणा ही विरोधी दलों के नेताओं को परेशान करने की रही है।

तेजस्वी यादव ने कहा

अगर देश के दोनों सूबे यानि यूपी और बिहार में समान विचारधारा के दल एक मंच पर आएं तो बीजेपी का सफाया करने में आसानी होगी। वो आगे कहते हैं कि यूपी में सपा और बसपा के बीच गठबंधन से शुरुआत हो चुकी है। उनकी खुद की सोच है कि बिहार में भी फासिस्ट शक्तियों के विरोध में समान विचारवालों दलों को एक साथ आना चाहिए। इसके लिए तेजस्वी यादव ने आरजेडी, एसपी और बीएसपी के बीच गठबंधन पर बल दिया।

Back to top button