देश

भगोड़े कारोबारी के पास है दुनिया भर की बेशकीमती पेंटिंग्स, कीमत उड़ा देगी आपके होश

भगोड़े नीरव ने जमा की थी बेशकीमती पेंटिंग, कीमत जान उड़ जाएंगे होश

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के मुख्य आरोपी भगोड़े कारोबारी नीरव मोदी के पास  दुनिया की बेशकीमती पेंटिंग्स जमाकर रखी थीं. इनकी कीमत जानकर आप दंग रह जाएंगे. असल में आयकर विभाग ने नीरव मोदी की पेंटिग्स नीलाम करने का फैसला किया था. तब जाकर इनकी कीमत का खुलासा हुआ बताते चले  इनकम टैक्स विभाग ने भगोड़े हीरा व्यापारी   की पेंटिग्स की  नीलामी किया . इस नीलामी से आयकर विभाग को 59.37 करोड़ रूपये हासिल हुए. आयकर विभाग ने उसकी कुल 68 पेंटिग्स को नीलामी लगवाई. मोदी पर विभाग का 97 करोड़ रूपये बकाया है.

भगोड़े नीरव ने जमा की थी बेशकीमती पेंटिंग, कीमत जान उड़ जाएंगे होश

विभाग ने नीलामी के लिए निजी नीलामी कंपनी की मदद ली. इस काम के लिए कंपनी को कमीशन देने के बाद विभाग के खाते में 54.84 करोड़ रूपये आयेंगे. इन पेंटिग्स में महान चित्रकार राजा रवि वर्मा, वीएस गायतोंडे, एफएन सूजा, जगन चौधरी और अकबर पद्मसी की कलाकृतियां शामिल हैं. मोदी इस समय लंदन की जेल में है.

भगोड़े नीरव ने जमा की थी बेशकीमती पेंटिंग, कीमत जान उड़ जाएंगे होश

लंदन की जेल में बंदल है नीरव मोदी, 29 मार्च को होगी सुनवाई
नीरव मोदी को मंगलवार 19 मार्च को स्कॉटलैंड यार्ड ने गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ्तारी के बाद उसे ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में पेश किया गया. अब इस मामले पर कोर्ट 29 मार्च को अगली सुनवाई करेगी, 29 मार्च तक नीरव मोदी को जेल में ही रहना पड़ेगा. नीरव मोदी की ओर से एक और भगोड़े विजय माल्या के वकीलों ने दलील रखीं.

कैमरा देखकर भागा नीरव मोदी
पीएनबी घोटाले के आरोपी नीरव मोदी को हाल ही में मीडिया ने लंदन में अपने कैमरे में कैद किया था. मीडिया  ने नीरव मोदी से घोटाले से जुड़े कई सवाल पूछे.मीडिया  के सवालों से बचता हुआ नीरव मोदी बिना रुके हुए भागता रहा. मीडिया  मोदी से बहुत बार कहा कि वो कुछ तो बोलें, लेकिन उसने कुछ नहीं कहा. आपको बता दें कि नीरव मोदी जनवरी 2018 से ही भारत से फरार है.

क्या है पीएनबी मामला?
पीएनबी ने 14 फरवरी को जानकारी दी कि उसके ब्रैडी हाउस ब्रांच में 11,500 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है. नीरव मोदी और उनके मामा मेहुल चोकसी पर 11,500 करोड़ रुपये कर्ज लेकर उसे नहीं चुकाने का आरोप लगाया. ये कर्ज पीएनबी के लैटर ऑफ अंडरटेकिंग के जरिए लिए गए और इनके आधार पर एक्सिस बैंक और इलाहाबाद बैंक की विदेशी ब्रांचों से भी कर्ज लिया गया.

Back to top button