जरा हट के

वीडियो: SWAG के साथ अपनी बारात लेकर निकली ‘बुलेट रानी’, बोली- ये सिर्फ लड़कों का कॉपी राइट नहीं

शादियां तो कई देखी होंगी. जिसमे दूल्हा हांथी पर, घोड़े पर महंगी कारों से अपनी बारात लेकर दुल्हन के दरवाज़े तक आते हैं. कभी सुना है कि दुल्हन अपनी बारात लेकर खुद निकली हो. वो भी फुल स्वैग के साथ बुलेट पर सवार हो कर. यही कर दिखाया है पुणे के एक किसान की बेटी ने. जो अपने घर से दूल्हे के दरवाज़े तक बारात लेकर खुद गयी. इस संदेश के साथ बेटियां किसी बेटे से कम नहीं होती हैं. उन्हें भी इस बात का पूरा हक़ है की वो अपना दूल्हा चुनें और अपने तरीके से शादी भी करें. बारात ले करा जाना सिर्फ लड़कों का कॉपी राइट नहीं है.

जब औंध तहसील के केडगांव की बेटी कोमल देशमुख दुल्हन के लिबास में सज धज कर बुलेट पर निकली तो देखने वालों को पहले तो ये लगा कि किसी फिल्म कि शूटिंग चल रही है. भला लाल जोड़े में सजी दुल्‍हन आंखों पर चश्‍मा और हाथों में हरी-हरी चूड़ि‍यां पहनी हुई इस तरह से बुलेट से थोड़े जायेगी. लेकिन कुछ ही देर में लोगों को समझ आ गया कि हैं. यह दुल्‍हन अलग है जो अपने शर्तों पर जीती है और अपने तरीके से शादी करने निकली है.

कोमल देशमुख को अपने घर से करीब पांच किलोमीटर दूर शादी के मंडप तक जाना था. लड़के वाले भी उसके दरवाज़े पर अपनी कार लेकर खड़े थे. लेकिन किसान शाजी देशमुख की बेटी कोमल देशमुख ने कार में नहीं बैठी. पिता की बाइक उठाई और निकल पड़ी. दूल्हे को भी कह दिया वो उसके पीछे पीछे आएं. आगे आगे कोमल बुलेट से चलती रही और उसके पीछे कई किलोमीटर फूलों से सजी गाड़ी चलती रही है. सजी धजी गाड़ियों में दूल्‍हा और उसके परिवार था.

इस तर्ज सजी धजी दुल्‍हन को ऐसे जाता देख रास्‍ते में लोग रुक गए. जब बाकी लड़कियों को और दूसरे लोगों का पता चला वो भी अपनी गाडी बाइक पर सवार होकर कोमल के साथ चलने लगे. उसके साथ चलने लोगों का कहना था की बेटियों को आगे बढ़ाने की यह पहल अच्‍छी थी. बाद में कोमल के पिता ने वही बुलेट अपनी बेटी को शादी के गिफ्ट के तौर पर दी जिस पर उसके पति और ससुरालवालों को भी कोई आपत्ति नहीं जताई.

Back to top button