धर्म

सूर्यदेव को जल चढ़ाते हुए बोलें ये मंत्र, पलभर में हर तकलीफ होगी खत्म

हम सभी की लाइफ में कोई ना कोई दुःख जरूर होता हैं. ऐसे में इन दुखो का निवारण करने के लिए हम निजी तौर पर बहुत प्रयत्न भी करते हैं. लेकिन कई बार स्थितियां हमारे हाथ में नहीं होती हैं और हमें अपने नसीब पर ही निर्भर रहना पड़ता हैं. इसलिए हम फिर अंत में भगवान की शरण में जाते हैं और उनसे अपने भाग्य को प्रबल बनाने और दुखो का खात्मा करने की विनती करते हैं. वैसे तो हिंदू धर्म में कई देवी देवता हैं जो आपके दुःख दर्द दूर कर सकते हैं लेकिन आज हम आपको सूर्यदेव से जुड़े कुछ विशेष उपायों से अवगत कराने जा रहे हैं.

सूर्यदेव का तेज़ बहुत विशाल होता हैं. इनका आशीर्वाद एक बार किसी को मिल जाए तो उसके भाग्य चमक जाते हैं. यही वजह हैं कि कई लोग सूर्यदेव को सुबह सुबह जल चढ़ाते हैं. चुकी सूर्यदेव साक्षात रोज दिन में हमारे ऊपर विराजित रहते हैं ऐसे में लोग इनकी डायरेक्ट जल चढ़ाते हुए पूजा कर सकते हैं. आप में से कई लोग भी सूर्यदेव को जल जरूर चढ़ाते होंगे लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस जल को चढ़ाते समय यदि साथ में आप कुछ ख़ास मंत्रो का जाप कर ले तो आपके कई दुःख पलभर में समाप्त हो सकते हैं. तो चलिए हम इन महत्वपूर्ण सूर्य मंत्रो के बारे में विस्तार से जन लेते हैं.

संतान प्राप्ति हेतु:

जिन लोगो को संतान नहीं हो रही हैं और वो बच्चे का सुख पाने के लिए तड़प रहे हैं उन्हें जोड़े के साथ सूर्यदेव को जल चढ़ाते हुए इन मंत्रो का जाप करना चाहिए. “ऊं भास्कराय पुत्रं देहि महातेजसे। धीमहि तन्नः सूर्य प्रचोदयात्।।” इस मंत्र को आप रविवार के दिन जोड़े के साथ एक ही तांबे के लौटे से जल चढ़ाते हुए बोले. ऐसा आप कम से कम 21 रविवार तक करे. आपको जल्द खुशखबरी मिलेगी.

रोग से मुक्ति हेतु:

यदि कोई व्यक्ति लम्बे समय से किसी बिमारी से जूझ रहा हैं और उसे आराम नहीं लग रहा हैं तो वो इस सूर्य मंत्र का जाप कर सकता हैं. “ऊं हृां हृीं सः सूर्याय नमः।।” यदि कोई व्यक्ति बार बार बीमार रहता हैं या हमेशा स्वास्थ रहना चाहता हैं तो भी इस मंत्र को सूर्यदेव को जल अर्पित करते हुए बोल सकता हैं.

अच्छे बिजनेस के लिए:

यदि आपको बिजनेस में नुकसान हो रहा हैं या फिर मन चाहा फायदा नहीं हो रहा हैं तो आप इस मंत्र का जाप भी करे. “ऊं घृणिः सूर्य आदिव्योम।।” यदि आपका बिजनेस ठीक चल रहा हैं लेकिन आप उसमे और वृद्धि चाहते हैं तो भी इस मंत्र को सूर्यदेव को जल चढ़ाते हुए बोल सकते हैं. आपके बिजनेस में लाभ होना शुरू हो जाएगा.

दुश्मन के विनाश के लिए:

यदि आप अपने किसी शत्रु से परेशान हैं और उसकी हर चाल को फ़ैल करना चाहते हैं तो सूर्यदेव को जल चढ़ाते हुए ये मंत्र बोले – “शत्रु नाशाय ऊं हृीं हृीं सूर्याय नमः”.

मनोकामना पूर्ण करने हेतु:

यदि आपकी कोई भी मनोकामना हैं जिसे आप पूरा करना चाहते हैं तो इस मंत्र को बोलते हुए सूर्यदेव को जल चढ़ाए. “ऊं हृां हृीं सः।।”.

ग्राही की बुरी दशा दूर करने के लिए:

यदि किसी गृह का दुष्प्रभाव आपकी लाइफ में दुःख बड़ा रहा हैं तो इस मंत्र का जाप करे. “ऊँ हृीं श्रीं आं ग्रहधिराजाय आदित्याय नमः।।”.

Back to top button