बड़ों की बातें

ढीले ब्रेस्ट में ऐसे लाएं कसावट, आज ही अपनाये ये घरेलू टिप्स

Image result for ढीले ब्रेस्ट

हर औरत खूबसूरत दिखना चाहती है और इसके लिए वे हर मुमकिन कोशिश करती हैं। खासतौर से महिलाऐं अपने फिगर के प्रति बहुत फिक्रमंद रहती है, क्योंकि ब्रैस्ट का ढीलापन उनकी सुंदरता में कमी लाता हैं। हांलाकि इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं।महिलाऐं अपनी ब्रैस्ट में कसावट लाने के लिए कई कैमिकल युक्त पदार्थों की मदद लेती हैं। इससे अच्छा है प्राकृतिक वस्तुओं की मदद से ब्रैस्ट का ढीलापन दूर किया जाए। इसलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे तरीके लेकर आए हैं, जो आपकी ब्रैस्ट में कसावट लाते हैं और आपकी ख़ूबसूरती को बढ़ाते हैं।

एक अध्ययन में उन महिलाओं के स्तनों में कोई अंतर नहीं पाया गया जो स्तनपान कराती हैं और जो फिगर को बनाए रखने के लिए बच्चे को फॉर्मूल फीडिंग करवाती हैं। उस स्टडी में निष्कर्ष निकाला गया कि स्तनपान किसी भी रूप में महिलाओं के स्तनों के आकार को प्रभावित नहीं करता।  विशेषज्ञों का एक अवलोकन यह भी रहा कि स्तनपान से स्तन की त्वचा और भी सेहतमंद होती है।

इन कारणों से होते हैं महिलाओं के स्तन ढीले

  •  स्तनपान की बजाय महिला की प्रेगनेंसी, स्तनों को प्रभावित करती है। प्रेगनेंसी के दौरान दूध उत्पादन शुरू हो जाता है। जिससे स्तनों का आकार बदलने लग जाता है।
  • जब आपका वजन बढ़ता है तो छाती के आसपास के लिगामेंट में थोड़ा खिंचाव आता है और यही स्तनों को ढीला बनाता है।
  •  आपके स्तनों के आकार, आकार और दृढ़ता में भी आनुवांशिक कारकों की भूमिका होती है।
  •  दूसरे कारण जैसे उम्र, कई गर्भधारण, धूम्रपान जैसी आदत, शरीर की चर्बी और आपकी गतिविधि का स्तर भी स्तनों के आकार को प्रभावित करता है।
  •  ब्रेस्टफीडिंग से ब्रेस्ट कैंसर और रजोनिवृत्ति से पहले डिम्बग्रंथि के कैंसर का खतरा भी कम होता है।
  •  धूम्रपान से भी स्तनों पर काफी गहरा प्रभाव पड़ता है इससे स्तन ढीले और बेड़ौल हो जाते है।
  •  धूम्रपान छोडऩा, बढ़ते वजन पर नियंत्रण करना, नियमित रूप से व्यायाम करना, सही आंतरिक वस्त्र पहनना और स्तनों को मॉइस्चराइज करने से भी इन्हें बेडौल होने से बचाया जा सकता है। लेकिन ये सब डॉक्टर की सलाह से ही करें।

ढीले स्तनों को टाइट करने के घरेलू उपाय

लहसुन

लहसुन में एलिसिन नामक पदार्थ अच्छी मात्रा में पाया जाता है इसीलिए लहसुन के लगातार सेवन से स्तन का ढीलापन दूर होता है और धीरे-धीरे करके आपके स्तन में ताकत आने लगती है.

गाय का घी, सौंठ, तिल

गाय का दूध और तिल को अच्छी तरह से पीसकर तेल तैयार कर ले और इसे अपने स्तनों पर लगाएं. इस तेल से स्तनों की मालिश लगभग 10 मिनट तक हर रोजाना स्नान से पहले करें. इसके लगातार इस्तेमाल से स्तनों में कसावट आने लगती है.

जैतून और फिटकरी

जैतून के तेल में थोड़ी सी फिटकरी मिला ले और इससे अपने स्तनों की मालिश करें. इसका लगातार प्रयोग करने से स्तनों में कसावट आने लगती है.

Back to top button