उत्तर प्रदेशख़बर

राम नाम की राजनीति: मंदिर बनाने के समर्थन में सपा, सकपका गई भाजपा

चुनावी मौसम है तो मंदिर भी याद आने लगा है. अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले एक बार फिर राम मंदिर बनाने का मुद्दा उठने लगा है. पहले भाजपा का इस मुद्दे पर एकाधिकार था लेकिन अब समाजवादी पार्टी भी राम मंदिर मुद्दे को लेकर मैदान में कूद पड़ी है जिसके बाद बीजेपी को भी अपनी रणनीति नए सिरे से बनानी पड़ रही है.

दरअसल समाजवादी पार्टी के महासचिव और राज्यसभा सदस्य सुनील सिंह नागर ने राम मंदिर को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि मैं राम भक्त हूं, और मुझे उम्मीद है कि आने वाले लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर बनकर रहेगा. उन्होंने यह भी दावा किया है कि राम मंदिर का निर्माण 3 से 6 महीने के अंदर होने वाला है.

उधर सपा सांसद का बयान आया, तो इधर संतो के अनशन के बीच भारतीय जनता पार्टी के सांसद साक्षी महाराज ने भी कह दिया है कि 2019 से पहले अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए, नहीं तो वह भाजपा से बगावत कर देंगे.

साक्षी महाराज ने कहा है कि अगर 2019 से पहले राम मंदिर का निर्माण नहीं होता है तो वह भारतीय जनता पार्टी से बगावत करने से पीछे नहीं हटेंगे, वह पार्टी से पहले संतों का पक्ष देंगे और राम मंदिर के निर्माण में संतो के साथ खड़े हैं.

जाहिर है, ये राम नाम की वही लड़ाई है. जो हर बार चुनावी मौसम में होती ही है. मंदिर कल भी मुद्दा था, आज भी वोट खींचने का मुद्दा है और ना जाने कितने बरसों तक मुद्दा बना रहेगा.

Back to top button