ख़बरदेश

Exit polls के नतीजो से लोगो हालत हुई पस्त, सोशल मीडिया यूजर्स ने ऐसे लिए मज़े

Exit polls ने बढ़ाई कंफ्यूज़न, सोशल मीडिया यूजर्स ने ऐसे लिए मज़े

राजस्थान और तेलंगाना में मतदान खत्म होते ही पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव को लेकर एग्जिट पोल के नतीजे भी जारी हो गए. तमाम न्यूज़ चैनल और एजेंसियों ने अपने-अपने सर्वे में कहीं बीजेपी-कांग्रेस में कांटे की टक्कर दिखाई, तो कहीं ‘हाथ’ (कांग्रेस का चुनाव चिह्न) को ‘कमल’ (बीजेपी का चुनाव चिह्न) से बड़ा बताया. एग्जिट पोल्स ने 11 दिसंबर को आने वाले पांच राज्यों के चुनाव नतीजों को लेकर सस्पेंस और दिलचस्पी बढ़ा दी है. बीजेपी के लिए ये चुनाव बेहद अहम हैं, क्योंकि इसी के आधार पर वह 2019 लोकसभा चुनाव का दम भरेगी.

एग्जिट पोल आने के बाद सोशल मीडिया में कड़ी बहस शुरू हो गई है. कुछ लोग एग्जिट पोल को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के सपोर्ट में अपनी राय रख रहे हैं.

देखिए ट्विटर यूजर्स ने एग्जिट पोल्स पर कैसी प्रतिक्रिया दी…

ExitPoll के बारे में एक ही चीज़ कही जा सकती है: जैसी सर्वे करने वालों की श्रद्धा

Me after watching different #exitpolls giving different results pic.twitter.com/xG95IMQqvP

मुझे पूरा यकीन है भाजपा हर राज्य में सरकार बना रही है, #ExitPolls गलत है, क्योंकि EVM की सेटिंग मजबूत तरीके से की गई है, मध्यप्रदेश में तो सच्चाई सामने भी आ गयी है।

https://twitter.com/SirDubey_/status/1071045566250000384?ref_src=twsrc%5Etfw

If a political party actually gets hand-in-glove with a channel to influence #Exitpoll, as people claim, what benefit does it get out it? 3 days of ‘feel good’ atmosphere!

At end of result day, #Mahaghatbandhan may say either of following:
1)EVM tampered
2) Moral Victory
3) End of #Modi wave

It’s my #Exitpoll !

क्या है एग्जिट पोल्स में?
ज्यादातर एग्जिट पोल्स में मिलाजुला अनुमान है. एग्जिट पोल्स भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के लिए गुड न्यूज नहीं लेकर आए है. पांच राज्यों के एग्जिट पोल्स, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में जहां बीजेपी को कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिलने के आसार जता रहे हैं, तो वहीं दूसरी ओर राजस्थान में विपक्षी दल की सरकार बनने का दावा किया जा रहा है. इसके साथ ही तेलंगाना में दावा किया जा रहा है कि तेलंगाना राष्ट्र समिति, सत्ता में वापसी करेगी. ऐसे मे आगामी लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखें तो बीजेपी के लिए यह अच्छी खबर नहीं है.

Back to top button