सेहत

बंद कर दीजिए शुगर फ्री गोलियों का इस्तेमाल, सेहत बनाने की जगह रही है बिगाड़

मधुमेह रोगियों को अक्सर मीठा खाने को मना किया जाता है, परंतु वे भोजन व पेय पदार्थों में स्वाद के लिए शक्कर का विकल्प चाहते हैं इसलिए शुगर फ्री गोली को बनाया गया है. आजकल विज्ञान ने ऐसे अनेक कृत्रिम मिठास वाले पदार्थ उपलब्ध कराए हैं, जो स्वाद में तो मीठे होते हैं लेकिन इनमें कैलोरी नहीं होती. अत: ये मीठे होने के बावजूद मधुमेह के रोगियों में शुगर नहीं बढ़ाते हैं. इन्हें आर्टिफिशियल स्वीटनर्स कहते हैं.

अगर आप डायबिटीज के पेशेंट हैं और अपनी सेहत बनाएं रखने के लिए आप चीनी की जगह शुगर फ्री गोलियों का सेवन करते हैं तो सर्तक हो जाइए. ये गोलियां आपकी सेहत बनाने की जगह बिगाड़ रही हैं. शायद ही आप जानते होंगे कि खाने में मिठास बनाए रखने के लिए इस्तेमाल होने वाले ये आर्टिफिशियल स्वीटनर आपको मधुमेह, हाई ब्लडप्रेशर और दिल संबंधी रोग लगा सकते हैं.

कनाडा की मानिटोबा यूनिवर्सिटी में हुए हाल में एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि इन आर्टिफिशियल स्वीटनर के इस्तेमाल से लोगों के पाचन तंत्र पर बुरा असर पड़ता है. इसका इस्तेमाल करने से व्यक्ति को भूख नहीं लगती.

शोधकर्ताओं के अनुसार लोगों को लगता है कि अगर वो चीनी की जगह आर्टिफिशियल स्वीटनर का इस्तेमाल करेंगे तो वो हेल्दी रहेगे. बहरहाल वो ये नहीं जानते इसका सेवन उन्हें मोटापा और दिल संबंधी रोग लगा सकता है. शरीर को चलाने के लिए हमें ‘ऊर्जा’ की आवश्यकता होती है जिसे ‘कैलोरी” (Calories) कहा जाता है. हमारा शरीर पाचन क्रिया के बाद खाने में से, कैलोरी का निकालता है. यह कैलोरी हमारे शरीर में खपत हो जाती है, या फिर फैट या चर्बी के रूप में जमा जाती है. यह अतिरिक्त वसा आपको मोटापा और उससे संबंधित रोग देता है.

आर्टिफिशियल स्वीटनर में एस्पार्टेम, सुक्रलोज और स्टेविया जैसे तत्व शामिल होते हैं. जिसकी वजह से व्यक्ति दिल की बीमारी, हाई ब्लडप्रेशर और शुगर जैसी बीमारियों से पीड़ित हो सकता है.

Back to top button