खेल

वर्ल्डकप : इंग्लैंड में रोहित साबित हो सकते हैं ट्रंपकार्ड, सबूत हैं ये हैरतअंगेज आंकड़े

मुंबई इंडियंस को आईपीएल विजेता बनाने वाले रोहित शर्मा के कंधों पर अब जिम्मेदारी है भारतीय टीम को विश्व विजेता बनाने की. 28 मई से इंग्लैंड में वर्ल्ड कप की शुरुआत होने जा रही है. और इस बार टीम इंडिया की जीत की असली चाबी रोहित शर्मा के हाथों में होगी. दरअसल वनडे क्रिकेट में आज कुछ ही बल्लेबाज ऐसे है जिनका नाम सुनकर ही गेंदबाजों के पसीने छूट जाते है. रोहित शर्मा का नाम उन चुनिंदा खिलाड़ियों में से एक है. रोहित अगर एक बार पिच पर टिक जाए तो फिर वो बड़ी पारी खेल कर ही आऊट होते है.

2011 विश्व कप टीम में चुने नहीं जाने वाले रोहित को पहली बार 2015 विश्व कप में खेलने का मौका मिला था. ऑस्ट्रेलिया में हुए 2015 विश्व कप में उन्होंने 330 रन बनाए थे और वह धवन के बाद सर्वाधिक रन बनाने वाले दूसरे भारतीय बल्लेबाज थे. हालांकि भारत उस विश्व कप को जीत पाने में कामयाब नहीं हो पाया था लेकिन इस खिलाड़ी ने बता दिया था कि आने वाले समय में रोहित टीम इंडिया के लिए तुरुप का इक्का साबित हो सकते है.

वनडे क्रिकेट में विश्व के नंबर 2 बल्लेबाज रोहित शर्मा ने अभी तक भारत की तरफ से 206 वनडे मुकाबले खेले है जिसकी 200 पारियों में उनके नाम 8010 रन है. इस दौरान रोहित ने 47.39 की औसत से 22 शतक और 41 अर्धशतक भी लगाए है. इंग्लैंड में भी रोहित का बल्ला जमकर बोला है. इस देश में रोहित ने 15 वनडे मुकाबलों में 57.25 की औसत से 687 रन बनाए है. इंग्लैंड में रोहित के नाम 5 अर्धशतक और 2 शतक भी है.

वनडे क्रिकेट में अब तक सिर्फ 8 दोहरे शतक लगे है, जिनमें से 3 रोहित के नाम है. इसके अलावा इस फॉर्मेट में सर्वाधिक स्कोर 264 भी रोहित ने ही बनाया है. वनडे में वह 206 मैचों में 22 शतक और 94 टी-20 मैचों में चार शतक जड़ चुके है. ये आकड़े साफ दर्शाते है कि रोहित किस शैली के बल्लेबाज है.

Back to top button