उत्तर प्रदेश

सपा नेता का बड़ा आरोप, कहा- नहीं दे पाया महंगी कार तो काट दिया मेरा टिकट 

टिकट कटने के बाद समाजवादी पार्टी पर हमलावर हुआ प्रत्याशी, कहा मुझसे मांगी गई फार्च्यूनर

आम चुनाव 2019 के चौथे चरण के मतदान के लिए चुनाव प्रचार थम गयाहैं।। इस चरण में नौ राज्यों में 71 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों में 29 अप्रैल को मतदान होगा। इस दौरान 71 सीटों पर 945 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला 12 करोड़ 79 लाख से अधिक मतदाता करेंगे। मतदान को सुचारू संचालन के लिए एक लाख 40 हजार से अधिक मतदान केंद्र बनाए गए हैं।

इस बीच  मिर्जापुर लोकसभा सीट की बात करे तो इस सीट पर सियासी संग्राम शुरू हो गया है बताते चले मिर्जापुर लोकसभा सीट से टिकट कटने से नाराज राजेंद्र एस बिंद ने समाजवादी पार्टी पर जमकर हमला किया है। उन्होंने सपा पार्टी पर हमला करते हुए सपा जिलाध्यक्ष, पूर्व मंत्री समेत कई नेताओं पर गंभीर आरोप लगाये है। उन्होंने कहा कि पार्टी के नेताओं ने उनसे रुपये लिए और फॉर्च्यूनर गाड़ी की मांग की। फॉर्च्यूनर गाड़ी की मांग पूरी नहीं करने पर उनका टिकट कटा है। राजेंद्र एस बिंद द्वारा लगाये गए आरोपों से पार्टी की मुश्किले बढ़ सकती है।

राजेंद्र एस बिंद ने सपा पर आरोप लगाते हुए ये भी कहा कि पार्टी के स्थानीय नेता उन्हें दुधारू गाय की तरह दूहना चाहते थे। उनसे पार्टी नेताओं ने रुपये वसूले और फॉर्च्यूनर जैसी लाखों रुपये महंगी गाड़ियों तक की मांग की गयी। उन्हें अब भी इंतजार है कि अखिलेश यादव उन्हें मौका देंगे और उनके हक में कोई न कोई फैसला किया जाएगा। उन्होंने जिले के सपा नेताओं पर उनसे रुपये वसूलने और महंगी एसयूवी गाड़ियां मांगने के आरोप लगाए। कहा कि उनके नाम के आगे उद्योगपति लगा होने के चलते उनका इस्तेमाल किया गया। चार गुना पैसे की डिमांड की गयी जो वह पूरा नहीं कर सकते हैं। जिसके बाद उनके खिलाफ प्रोपगेंडा कर उनका टिकट कटवा दिया गया।

राम चरित्र निषाद के बारे में उन्होंने कहा कि

राम चरित्र निषाद के बारे में मीडिया से कहा उनके खिलाफ तो इसी बात का मुकदमा चल रहा है कि वो पिछड़े हैं या दलित1 यहां वो निषाद बनकर आए हैं। उन्होंने अपना टिकट काटे जाने से बिंद समाज में नाराजगी होने का दावा भी किया। यह भी दावा किया कि जिले में समाजवादी पार्टी चार गुटों में बंटी हुई है। मैंने इन्हें साथ लाने की कोशिश की थी ताकि जिस उद्देश्य के लिये गठबंधन हुआ है वह सफल हो सके।

Back to top button