देशराजनीति

जसवंत सिंह के बेटे ने क्यों थामा कांग्रेस का हाथ, बताई ये वजह…

rajasthan assembly election 2018 jaswant singh son manvendra singh said public will teach lesson to bjp | राजस्थान चुनाव 2018: जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह ने बताया क्यों थामा कांग्रेस का हाथ, कहा- जनता बीजेपी से बदला लेगी

नयी दिल्ली।   एक जमाने में अटल बिहारी वाजपेयी के केंद्रीय मंत्रिमंडल में वरिष्‍ठ मंत्री रहे भाजपा नेता जसवंत सिंह के विधायक बेटे मानवेंद्र सिंह कांग्रेस में शामिल हुए पूर्व सांसद मानवेंद्र सिंह ने मौजूदा भाजपा को अटल बिहारी वाजपेयी के संस्कारों से दूर जा चुकी पार्टी करार देते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि आगामी चुनाव में राजस्थान की जनता उनके पिता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के ‘अपमान’ का बदला लेगी।

राहुल गांधी के नेतृत्व में भरोसा जताते हुए मानवेंद्र ने कहा कि देश का नेतृत्व करने के लिए किसी भी नेता में मानवता होना जरूरी है और कांग्रेस अध्यक्ष में ‘मानवता का भंडार’ है। वह बुधवार को कांग्रेस में शामिल हुए।

उन्होंने ‘भाषा’ के साथ बातचीत में कहा, ‘‘मेरे लिए भाजपा छोड़ना आसान नहीं था क्योंकि वह मेरा परिवार था। लेकिन जब परिवार में नहीं सुनी गई और मित्र (राहुल) ने सुना तो मैंने यह कदम उठाया। कांग्रेस में शामिल होने का फैसला अपने लोगों से बातचीत करने के बाद किया। यह निर्णय सामूहिक रूप से लिया गया।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या राहुल गांधी से उनकी किसी पद को लेकर बात हुई है तो मानवेंद्र ने कहा, ‘‘राहुल गांधी से मुलाकात के दौरान पार्टी में किसी पद या जिम्मेदारी को लेकर कोई बात नहीं हुई। लेकिन अगर कोई जिम्मेदरी दी जाती है कि मैं उससे इनकार नहीं करूंगा।’’

वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले अपने पिता जसवंत सिंह का भाजपा द्वारा टिकट काटे जाने और फिर बाहर निकाले जाने का हवाला देते हुए मानवेंद्र ने दावा किया कि मौजूदा भाजपा में वाजपेयी वाले संस्कार नहीं हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘अटल जी के जाने से संस्कार भी चले गये हैं। एक सांस्कृतिक युग चला गया है। अब भाजपा में वो सांस्कृतिक युग नहीं रहा है। मुझे अनुभूति होती है कि मैंने जो कदम उठाया है उसमें अटल जी का आशीर्वाद है।’’

साल 2014 में बीजेपी ने काटा था जसवंत सिंह का टिकट

मानवेंद्र ने कहा, ‘‘बाड़मेर, जालौर, जैसलमेर, जोधपुर और राजस्थान के अन्य जिलों के लोग (जसवंत सिंह के) अपमान का बदला लेंगे।’’

दरअसल, 2014 के चुनाव में भाजपा ने वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह का टिकट काट दिया जिसके बाद वह निर्दलीय चुनाव लड़े। हालांकि उन्हें हार का सामना करना पड़ा। बाद में भाजपा ने जसवंत सिंह को पार्टी से निकाल दिया और मानवेंद्र को भी निलंबित कर दिया।

यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस अध्यक्ष देश का नेतृत्व करने में सक्षम हैं तो मानवेंद्र ने कहा, ‘‘नेतृत्व करने के लिए लोकतंत्र में सबसे बड़ी जरूरत मानवता की होती है। अगर आप में मानवता नहीं है तो आप गरीब की पीड़ा कैसे समझेंगे। राहुल जी में मानवता का भंडार है। मैं उनको वर्षों से जानता हूं। हमारी आपस में बात होती है तो खुलकर होती है। मैंने उन्हें निकट से देखा है। जो मानवता उनमें है वो कम नेताओं में होती है।’’

उन्होंने यह भी कहा कि राजस्थान भाजपा की स्थिति को लेकर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की थी, लेकिन कुछ नहीं हुआ।

मानवेंद्र ने दावा किया कि राजस्थान की जनता वसुंधरा राजे और भाजपा की सरकार को हटाने का मन बना चुकी है और आगामी चुनाव में बड़ा बदलाव होगा।

Back to top button