उत्तर प्रदेश

मतदान के दौरान योगी के मंत्री के घर पर चुनाव आयोग का छापा, लेकिन क्यों?

कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या

-चुनाव आयोग ने जिला प्रशासन से मांगी रिपोर्ट

लखनऊ  प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद पर बेटी के लिए नजायज मतदान कराये जाने के मामले को चुनाव आयोग ने संज्ञान में लिया है। इस पूरे मामले की रिपोर्ट जिला प्रशासन से मांगी है। साक्ष्य के आधार पर उचित कार्रवाई की जाएगी।
बदायूं लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार धर्मेंद्र यादव ने आज सुबह शिकायत की कि भाजपा उम्मीदवार संघमित्रा के पिता और राज्य सरकार में मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य चुनाव के दिन भी बदायूं में आवास विकास कॉलोनी के मकान नंबर 304 पर रुके हुए हैं। उनके द्वारा चुनाव में गड़बड़ी फैलाये जाने का अंदेशा है।

इस शिकायत पर फौरन जिला निर्वाचन अधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने उनके घर पर छापेमारी के आदेश दिए। पुलिस धर्मेंद्र यादव के बताये स्थान पर गयी, लेकिन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य नहीं मिले। स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा बेटी के लिए नाजायज वोटिंग का दबाव बनाने, गाड़ियों में असलहा लेकर चलने, सपा कार्यकर्ताओं को धमकाने के सम्बन्ध में मिली सूचना का चुनाव आयोग ने संज्ञान लेते हुए जिला प्रशासन के अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ साक्ष्य मिलने पर ठोस कार्रवाई की जायेगी। 

Back to top button