देश

मोदी अपना गुस्सा कैसे करते हैं शांत, क्या करेंगे अगर मिल जाए अलादीन का चिराग ?

लोकसभा चुनाव के बीच एक इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने निजी जीवन से जुड़े कई राज खोले हैं. बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार के साथ इंटरव्यू में राजनीति से अलग हटकर पीएम मोदी के निजी जीवन को लेकर चर्चा हुई.

क्या मोदी को गुस्सा आता है?

पीए मोदी ने कहा कि राजी, नाराज और गुस्सा मनुष्य के स्वभाव का हिस्सा है. ये खुद को तय करना होता है कि आपको क्या करना है. पीएम मोदी ने कहा कि मैं लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहा, प्रधानमंत्री रहा लेकिन चपरासी से लेकर प्रिंसिपल सेक्रेटरी तक मुझे गुस्सा व्यक्त करना का अवसर कभी नहीं मिला. हालांकि, पीएम मोदी ने ये जरूर कहा कि वो सख्त हैं, लेकिन साथ ही ये भी बताया कि मैं अनुशासित हूं लेकिन कभी किसी को नीचा नहीं दिखाता हूं, उन्हें प्रेरित करता हूं.

गुस्से को कैसे करते हैं शांत?

पीएम मोदी ने बताया कि अगर कोई ऐसा घटना है जो उन्हें पसंद न आए तो अकेला कागज लेकर बैठता था. उस घटना का वर्णन लिखता था, क्या हुआ क्यों हुआ. फिर उस कागज को फाड़कर फेंक देता था. फिर भी मन शांत नहीं होता था तो दोबारा उस घटनाक्रम को लिखता था. इससे मेरी सारी भावनाएं लिखने के बाद जल जाती हैं. इससे ये भी एहसास हो जाता है कि मैं भी गलत हूं.

अलादीन का चिराग मिले तो क्या करेंगे?

पीएम मोदी ने बताया कि अगर मुझे अलादीन का चिराग मिल जाए तो मैं उसे कहूंगा की ये जितने भी समाजशास्त्री और शिक्षाविद हैं उनके दिमाग में भर दो कि वो आने वाली पीढ़ियों को ये अलादीन के चिराग वाली थ्योरी पढ़ानी बंद कर दें. उन्हें मेहनत करने की शिक्षा दें.

Back to top button