उत्तर प्रदेशराजनीति

यूपी में लगे पोस्टर देख हिली भाजपा, लिखा- ‘शांत नहीं हम मौन हैं 2019 में बताएंगे हम कौन हैं’

यूपी। पूरे शहर में लगाए गए सरकार विरोधी पोस्टर, लिखा- शांत नहीं हम मौन हैं 2019 में बताएंगे हम कौन हैं

यूपी। पूरे शहर में लगाए गए सरकार विरोधी पोस्टर, लिखा- शांत नहीं हम मौन हैं 2019 में बताएंगे हम कौन हैं

उन्नाव। यूपी  के उन्नाव जिले में उस समय लोगो के पसीने छूट गए जब  जब पूरे शहर में रातों-रात सरकार विरोधी पोस्टर  एक साथ दीवारों पर चिपके दिखे। जिससे पूरे इलाके में हडकंप मच गया. यह विरोद कुछ अलग ढंग से किया गया। पूरे शहर में सरकार के विरोध में ऐसे पोस्टर लगे मिले जिसमें सरकार का अनोखे शब्दों में विरोध किया गया है। इस पोस्टर में लिखा गया है कि, ‘शांत नहीं हम मौन हैं, 2019 में बताएंगे हम कौन हैं (पीड़ित पुलिस परिवार),’ साथ ही इसी तरह को दूसरे पोस्टर में लिखा गया है कि ‘बॉर्डर स्कीम सभी के लिए समाप्त करो बिना शर्त के’। इस पोस्टर की सूचना प्रशासन को जैसे ही मिली आनन-फानन में अधिकारियों ने पोस्टर हटवा दिए। फिलहाल पुलिस इस मामले में जानकारी जुटाने के लिए सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाल रही है जिससे पोस्टर चिपकाने वाले शख्स तक पहुंचा जा सके।

आपको बता दें, कि यह घटना शनिवार रात की है

उन्नाव में सरकार के विरोध में इस प्रकार के हजारों पोस्टर सरकार के विरोध में लगाए गए। यह पोस्टर विवादित इसलिए भी हो जाता है क्योंकि इस पोस्टर को यूपी पुलिस के नाम से चिपकाया गया है। बीते दिनों विवेक तिवारी हत्या केस में पुलिस विभाग में आक्रोश देखने को मिला था, कहीं ये उसी की अगली कड़ी तो नहीं। पुलिस इस मामले को लेकर बेहद सावधान है साथ ही इस मामले की बारीकी से जांच कर रही है। शहर भर में लगे पोस्टर कुछ ही देर में सोशल मीडिया पर वायरल हो गए। रविवार की शाम पुलिस अधीक्षक के आदेश के बाद इन पोस्टरों को शहर भर में हटवाया गया।

यूपी। पूरे शहर में लगाए गए सरकार विरोधी पोस्टर, लिखा- शांत नहीं हम मौन हैं 2019 में बताएंगे हम कौन हैं

शहर के हरदोई रोड पुल, कचहरी पुल, पुलिस लाइन रोड, बड़े चौराहे, छोटे चौराहे, कोतवाली के पास गांधीनगर तिराहा सहित कई अन्य प्रमुख स्थानों पर शनिवार रात कुछ लोगों ने सड़कों के किनारे दीवारों और होर्डिंग व बोर्डों पर सरकार के विरोध में पोस्टर लगा दिए। पोस्टर में वेतन विसंगति, बार्डर स्कीम व ड्यूटी के लिए समय निर्धारित करने की मांग से संबंधित संदेश लिखे हैं। पोस्टर के बैकग्राउंड में यूपी पुलिस भी लिखा है और नीचे पीड़ित पुलिस परिवार भी लिखा है। पोस्टर के फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुए तो पुलिस अधिकारियों में हड़कंप मच गया।

Back to top button