क्राइम

2 औरतों की दीवानगी का अंजाम : प्रेमी-प्रेमिका के बीच आ रही थी पत्नी, उतारा मौत के घाट !

नई दिल्ली। अपने बचपन के प्यार को पाने के लिए एक मैकेनिकल इंजीनियर ने प्रेमिका के साथ मिलकर मल्टीनेशनल कंपनी में काम करने वाली पत्नी की हत्या कर दी। साजिश के तहत आरोपित ने अपनी प्रेमिका के जरिए पत्नी को जहरीला पदार्थ पिलाया और फिर इसे खुदकुशी की शक्ल देने की कोशिश की। लेकिन साक्ष्य और सबूत के आगे उनकी साजिश विफल हो गई और किशनगढ़ थाना पुलिस ने आरोपित को उसकी प्रेमिका के साथ गिरफ्तार कर लिया।

ये हैं आरोपी

2 औरतों की दीवानगी का अंजाम: बचपन की GF ने किया BF की पत्नी का मर्डर

प्रेमिका भी नोएडा से एमबीए करने के बाद एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करती है। आरोपित ग्वालियर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग करने के बाद एक निजी कंपनी में मैकेनिकल इंजीनियर के पद पर कार्यरत था। डीसीपी देवेंद्र आर्या ने बताया कि पकड़े गए आरोपिताें की पहचान किशनगढ़ निवासी राहुल कुमार मिश्रा (32) और मयूर विहार निवासी पदमा तिवारी (33) के रूप में हुई है।पति राहुल ने ही पत्नी को कराया था अस्पताल में भर्ती गत 16 मार्च को किशनगढ़ थाना पुलिस को फोर्टिज अस्पताल से एक महिला की संदिग्ध हालत में मौत की सूचना मिली। मृतका की पहचान पूजा राय (26) के रूप में हुई। जांच में पता चला कि किशनगढ़ निवासी पूजा को उसके पति राहुल ने अस्पताल में भर्ती कराया था।

2 औरतों की दीवानगी का अंजाम: बचपन की GF ने किया BF की पत्नी का मर्डर

चूंकि शादी के सात साल पूरे नहीं हुए थे इसलिए मामले की जानकारी एसडीएम को दी गई। पुलिस ने पूजा के शव का डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया। उधर एसडीएम ने पूजा के परिवार वालों का बयान दर्ज कर लिया। गत 27 अप्रैल को पुलिस को पूजा का पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिला। जिसमें हत्या की आशंका जताई गई थी। पुलिस ने हत्या का केस दर्ज कर जांच शुरू की। तकनीकी जांच में पति और उसकी प्रेमिका पर हुआ शक तकनीकी सर्विलांस में जो तथ्य सामने आए उससे पूजा के पति और उसकी प्रेमिका पदमा पर शक गहरा गया। मोबाइल सर्विलांस से पता चला कि हत्या की वारदात के पहले पदमा पूजा के पास आई थी। उसके बाद पुलिस ने पूजा के पति और पदमा से पूछताछ की जिसमें दोनों के बयान विरोधाभाषी थे। उससे पुलिस का शक और ज्यादा गहरा गया और पुलिस ने दोनों ने सख्ती से पूछताछ की। जिसमें उन लोगों ने अपना अपराध कबूल कर लिया। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

बचपन का प्यार पाने के लिए दिया वारदात को अंजाम पूछताछ में राहुल ने बताया कि वह और पदमा तिवारी झारखंड के धनबाद में एक ही स्कूल में बचपन से पढ़ते थे। दोनों अच्छे दोस्त थे। 12वीं तक वहां पढ़ाई करने के बाद दोनों उच्च शिक्षा बाहर चले गए और उनके बीच कोई संपर्क नहीं हुआ। अप्रैल 2015 में पदमा को स्कूल के एक व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ा गया जिसमें पदमा ने राहुल को भी देखा। पदमा ने राहुल से बात की और फिर दोनों के बीच प्यार पनप गया। लेकिन परिवार वाले उनके रिश्ते से खुश नहीं थे और परिजनों ने दोनों की शादी से इंकार कर दिया। जनवरी 2017 में परिवार वालों ने राहुल की शादी पूजा राय से तय कर दी।

राहुल ने पूजा से मिलकर पदमा के रिश्ते के बारे में बताया ताकि पूजा शादी करने से इंकार कर दे, लेकिन पूजा ने ऐसा कुछ भी नहीं किया। 23 अप्रैल 2017 को पूजा और राहुल की शादी हो गई। इसके बाद राहुल और पदमा पूजा से नफरत करने लगे।इस तरह से रची साजिशसाजिश के तहत राहुल ने अपनी पत्नी को पदमा के पास बायोडाटा भेजने के लिए कहा ताकि उनके बीच बातचीत होने लगे।

लेकिन इस मिलने जुलने के दौरान पूजा पदमा को राहुल के साथ संबंध रखने को लेकर ताना मारने लगी। उसके बाद राहुल और पदमा ने पूजा की हत्या की साजिश रच डाली। घटना वाले दिन नौकरी की बात को लेकर पदमा पूजा के घर पहुंची और अपने साथ जहरीला पदार्थ मिला पेय पदार्थ भी ले गई थी। पदमा ने पूजा को पेय पदार्थ पिला दिया। साथ ही खुद से लिखा गया पूजा का फर्जी सुसाइड नोट उसके पास रखकर फरार हो गई।

Back to top button