उत्तर प्रदेश

साजिश के खेल में फंसी योगी की पुलिस, ऐसे तस्करों के दलाल बन गए खाकीवाले!

Image result for यूपी पुलिस

कुशीनगर । कसया थाना की पुलिस नम्बर के खेल में फंस गई है। मामला तस्करी की अंग्रेजी शराब व पशुओं की बड़ी खेप की बरामदगी से जुड़ा हुआ है। विधायक रजनीकांत मणि त्रिपाठी ने मामले की शिकायत शनिवार को मुख्यमन्त्री से की है। आरोप है कि पुलिस तस्करों से मिल गई। साजिश रच 436 पेटी शराब बाजार में बेच 21 पशुओं को भी पुनः तस्करों को सौंप दिया।

जानकारी के अनुसार 29 मई को शाम 4.30 बजे कसया पुलिस ने 64 पेटी अंग्रेजी शराब बरामद दिखाई। शराब एक डीसीएम ट्रक से बरामद की गई थी। ट्रक पर शराब सीमेंट के बोरियों के बीच छिपा कर रखी गई थी। विधायक के अनुसार ट्रक को एआरटीओ ने चार दिन पूर्व पकड़ थाना में खड़ा किया था। उस पर 510 पेटी छोटी बड़ी साइज़ की अंग्रेजी शराब लदी थी। शराब को सीमेंट की बोरियों से ढंका गया था। लेकिन पुलिस ने मात्र 64 पेटी छोटी शीशियों की बरामदगी दिखाई है। आरोप है कि शराब बाजार में बेच दी गई।
विधायक की मानें तो पशुओं की बरामदगी के मामले में भी पुलिस की भूमिका संदिग्ध है। 31 मई को पुलिस ने 35 पशु बरामद किए। देर रात को पुलिस ने इनमें से 21 पशु छोड़ दिए। कागजात में पशुओं को किसानों को सौंपना दिखाया गया है। लेकिन एक भी पशु कथित किसान के घर पशु नहीं पहुंचे। दोनों मामलों में थानाध्यक्ष की सीधी भूमिका है। बरामदगी के दौरान एसओ छुट्टी पर घर गए थे। आरोप है कि मामले को मैनेज करने के लिए एक दिन पूर्व ही छुट्टी से वापस आ गए थे। प्रकरण से मुख्यमन्त्री को अवगत कराया हूं।”
इस मामले में पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र का कहना है कि दोनों मामलों की जांच कराई जायेगी। यदि आरोप सही मिले तो सम्बंधित सभी पुलिसकर्मियों पर कड़ी कार्रवाई होगी।
Back to top button