देश

PMCH से हर दिन निकल रहे थे शव, एकसाथ डिस्चार्ज हुए 11 लोग तो ऐसे हुआ सरकारी स्वागत

पटना मेडिकल कॉलेज (PMCH) से हर दिन निगेटिव खबर आ रही थी, गुरुवार को ऐसी पॉजिटिव खबर आई जिससे गंभीर मरीजों में भी जोश बढ़ गया। जहां से लाशें निकलती थी, वहां से एक साथ 11 लोग कोरोना को मारकर निकले। एक साथ 11 कोरोना विजेताओं के बाहर आते ही उनका स्वागत लाल गुलाब से किया गया।अधीक्षक और कोविड के नोडल के साथ वहां मौजूद संक्रमितों के परिजनों ने ताली बजाकर स्वागत किया। PMCH में कोरोना की दूसरी लहर में पहली बार ऐसा अवसर आया, जब लोगों की आंखों में उम्मीद दिख रही थी।

डॉक्टरों का किया शुक्रिया

PMCH के कोविड वार्ड से एक साथ डिस्चार्ज हुए 11 लोगों ने डॉक्टरों का शुक्रिया करते हुए कहा कि अस्पताल जाते समय डर था, लेकिन वार्ड में इतनी हिम्मत मिली कि कोरोना की मौत हो गई। वह जिंदा बाहर आए। कोविड से ठीक हुए यह 11 मरीज राज्य के अलग-अलग जिलों के रहने वाले हैं। मरीजों को अधीक्षक डॉ ए के ठाकुर ने गुलाब का फूल देकर कोरोना मुक्त होकर नई जिंदगी जीने के लिए विदा किया। नोडल डॉ अरुण अजय ने डिस्चार्ज हुए मरीजों के स्वस्थ रहने की कामना करते हुए कहा कि उनका जीवन अब आगे निरोग रहे।

मरीजों ने कहा- हिम्मत से जीती है जंग

कोरोना को मात देने वाले 11 मरीजों ने कहा कि उन्होंने अपनी हिम्मत से कोरोना को हराया है। कभी उम्मीद नहीं छोड़ी, हर पल आत्मविश्वास के साथ कोरोना को हराने के बारे में सोचते रहते थे। काेरोना वार्ड के डॉक्टरों और स्टॉफ ने भी उन्हें हिम्मत दी। इस हिम्मत के सहारे ही वह बाहर आए हैं।

कोरोना को मात देने वालों ने लोगों से अपील की है कि वह कभी हिम्मत नहीं हारें और ना ही कभी दिल छोटा करें। हिम्मत है तो कोरोना पर विजय संभव है। उन्होंने प्रशासन और डॉक्टरों को धन्यवाद दिया।

अधीक्षक ने कहा कि हमारा प्रयास है कि मरीजों को हम बेहतर इलाज, सुविधा और सेवा दे सकें। इसमें हमारे कोविड प्रभारी डॉक्टर अरुण अजय, पैरामेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मी, प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों की निगरानी से व्यवस्था अच्छी हुई है।

Back to top button