जरा हट के

Pics: बच्चों ने इम्तेहान में दिए ऐसे गुदगुदाते जवाब, देखकर टीचर भी नहीं रोक सके हंसी

बचपन का दौर बड़ा ही नटखट होता है. इस दौर में इस बात का ज़रा भी ख्याल नहीं रहता है की हमारे बातो से या किसी भी काम से लोग क्या सोचेंगे. बचपन का समय केवल मस्ती करने का और बिना किसी भी बात की परवाह किये हुए अपनी मनमौजी करने का होता है. आजकल के बच्चे कुछ इस हद तक मस्ती में लग चुके है कि वो अपनी स्कूल की परिछाओ की कोपियो को भी नहीं बक्श रहे है. इस बात का बेहतरीन एक्साम्प्ले हम आपको आज इस आर्टिकल के ज़रिये दिखा रहे है जिन्हे देककर आपको बहुत ज्यादा हंसी आने वाली है. तो चलिए देखते है कुछ मज़ेदार फोटोज जो आपको हंसा हंसाकर लोटपोट कर ही देगी.

1. भगवान रामजी जो को भी नहीं बक्शा.

इस बच्चे को लगता है रामायण का ज़र भी ज्ञान नहीं है. अगर इसके मम्मी पापा इसे थोड़ा बहुत रामायण पढ़ा देते तो फिर यह कुछ और ही जवाब लिखता, ये वाकई में बड़ा ही अजब है हिन्दू धर्म के सबसे बड़े भगवान के बारे में भी इसे नहीं पता.

2. बापूजी का इतना इतना बड़ा हाथ

यहां खुद महात्मा गांधी ने भी नही सोचा होगा कि भारत देश की आजादी की लड़ाई में उनका इतना ज्यादा बड़ा हाथ है. यहां इस बच्चे को हाथ का तात्यपर्य ही कुछ और समझ में आ गया. लेकिन जो भी कहिये इस जवाब ने तो वाकई खूब हसाया.

3. गोबर गैस का सही मतलब

स्कूल की किताबो में गोबर गैस के बारे में जो बताया जाता है सिड वो तत्थ गलत हो, गोबर गैस का असली सत्य तो इस जगह पर छुपा हुआ है लेकिन इसे जीरो नम्बर क्यों दिया गया है?

4. गणित की समस्या हल बड़े ही फिल्मी अंदाज में

इस फिल्मी बच्चे ने तो गणित की समस्या का हल बिलकुल अपने फिल्मी अंदाज में निकाला है, इसने पूरी समस्या को खा गया और जवाब कुछ इस तरह पीछे से निकाला है इसने.

5. आजकल के बच्चो के दिमाग में भी बस यही एक है ओरिजनल का उल्टा?

आजकल के हर बच्चो को भी पता हो गया है की ओरिजिनल का उल्टा मतलब चीन है, वैसे इस बच्चे ने अपने जवाब में कुछ गलत भी तो नही लिखा है? आजकल चीन आइटम हो ही गया है इस तरह के उसके बारे में बोला जाता है की ‘चले तो चाँद तक नहीं तो शाम तक’ इसलिए बच्चे भी जो देखते है वही तो सीखते है इसमें कोई सोचने वाली बात तो नही है.

Back to top button