देश

Period Poverty : इस देश ने महिलाओं के लिए फ्री किए सैनिटरी प्रोडक्ट्स, क्या भारत में होगा ऐसा?

दुनिया के कई देश ऐसे हैं जहां पर आए दिन महिलांओं के हितों के लिए नए कानून और संसाधन लाए जाते हैं. हर देश की हर सरकार अपने देश की महिला वर्ग की सुरक्षा का दाइत्व हमेशा से ही सबसे ऊपर रखते आए हैं. तो वहीं अब इस क्रम में स्कॉटलैंड की संसद ने एक क्रांतिकारी कानून लागु किया है. जिसमें महिलाओं के लिए उनकी स्वच्छता से जुड़े उत्पादों को मुफ्त बांटने के लिए एक नया कानून पारित किया गया है. यह कदम ऐसे समय पर उठाया गया है. जब कई चैरिटी संस्थाओं के मुताबिक ऐसा कहा जा रहा हैं कि महामारी के दौरान ‘पीरियड पावर्टी’ बढ़ रही है

आपको बता दें कि कानून के पारित होते ही स्कॉटलैंड मासिक धर्म से जुड़े उत्पादों को मुफ्त में देने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है. स्कॉटिश संसद ने सभी की सहमति के साथ इस पीरियड प्रोडक्ट्स बिल के पक्ष में मतदान किया है. इस के तहत सार्वजनिक भवनों में सेनेटरी प्रोडक्ट्स को मुफ्त में पहुंचाया जाएगा.

मतदान के पहले संसद की सदस्य मोनिका लेनॉन ने कहा कि हम सभी सहमत हैं कि किसी को भी चिंता नहीं करनी चाहिए कि उनका अगला टैम्पॉन या सेनेटरी पैड दोबारा कहां से मिलने जा रहा है. अप्रैल 2019 में लेनॉन ने ही इस बिल को संसद में पेश किया था.

कानून के तहत मासिक धर्म से जुड़े उत्पाद को सामुदायिक केंद्रों, युवा क्लबों, शौचालयों और फार्मेसियों में भी रखा जाएगा. महिलाओं और युवतियों के लिए तय जगहों पर टैम्पॉन और सेनेटरी पैड उपलब्ध कराए जाएंगे और महिलाएं इन वस्तुओं को मुफ्त में प्राप्त कर सकेंगी.

स्कॉटलैंड का ये नया कानून पूरी दुनिया के लिए एक सबब बन गया है. हालांकि भारत में भी इस तरह की योजनाएं चलाई गई हैं. लेकिन इनकी पहुंच अभी तक सिर्फ स्कूल में पढ़ने वाली छात्राओं तक है. और कई राज्यों में तो ये भी नहीं है. अभी भी देश के कई सैकड़ों गाँव में महिलायें अपने मासिक धर्म के समय के वक्त अस्वच्छ वस्तुओं का इस्तेमाल करती है. जिससे उनकी जान को भी खतरा होता है.

तो अब देखना होगा कि स्कॉटलैंड सरकार की तरह और कितने देश इस कानून को लाते हैं.

Back to top button