देश

PAN से आधार अभी जोड़ें ये खास लोग, वरना होगा बहुत पछतावा

 जरूरी है पैन-आधार को लिंक कराना

ITR भरने, बैंक और अन्य कई जगहों पर PAN Card की आवश्यकता होती है। नए पैन कार्ड के लिए ऑनलाइन अप्लाई करना का प्रोसेस काफी सरल है। PAN Card गुम हो जाए या फिर पैन कार्ड में नाम और अन्य जानकारी को अपडेट करना हो तो आपको कौन सा प्रोसेस फॉलो करना है, आज हम आपको एक खास जानकारी देने जा रहे.

बता दे  आधार नंबर को पैन कार्ड से जोड़ने की अंतिम तिथि छह महीने बढ़ाकर 30 सितंबर 2019 कर दी गयी है। इससे पहले यह अवधि 31 मार्च तक ही थी।  केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने रविवार रात यहां एक आधिकारिक विज्ञप्ति जारी कर यह जानकारी दी। गौरतलब है कि मीडिया में ऐसी खबरें आ रही थीं कि जो पैन कार्ड 31 मार्च 2019 तक आधार नंबर से नहीं जुड़े (लिंक) होंगे वो अमान्य हो जायेंगे।
विज्ञप्ति के अनुसार केन्द्र सरकार ने इस पर विचार करते हुए पैन कार्ड को आधार नंबर से जोड़ने की अंतिम तिथि छह महीने बढ़ाकर 30 सितंबर 2019 कर दी है। लेकिन सुप्रीम कोर्ट का आदेश तब भी अनिवार्य रहेगा।

ऐसे में जिन वेतनभोगियों व अन्‍य करदाताओं को 31 जुलाई 2019 तक आयकर रिटर्न (ITR) भरना है, वे बिना PAN को आधार के साथ जोड़े रिटर्न फाइल नहीं कर पाएंगे, यानि 31 जुलाई से पहले आयकरदाताओं को पैन-आधार को हर हाल में लिंक कराना होगा।

छठी बार समयसीमा बढ़ाई
आपको बता दें कि सरकार ने छठी बार पैन को आधार से जोड़ने के लिये समयसीमा बढ़ाई है। बीते साल जून में कहा गया था कि हर व्यक्ति को 31 मार्च तक आधार को पैन के साथ जोड़ना है। केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) के स्‍टेटमेंट में कहा, ‘यदि कोई विशिष्ट छूट नहीं दी जाती है तो अब आधार संख्या के बारे में सूचना देने और पैन को आधार संख्या से जोड़ने की अंतिम तिथि 30 सितंबर 2019 है।’

आयकर रिटर्न भरने के लिए जरूरी है आधार
CBDT ने यह साफ कर दिया है कि 1 अप्रैल 2019 से आयकर रिटर्न दाखिल करते समय आधार संख्या का उल्लेख करना अथवा उसे जोड़ना अनिवार्य होगा। आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने बीते साल सितंबर में केन्द्र की आधार योजना को संवैधानिक रूप से वैध माना था। कोर्ट ने भी कहा था कि पैन देते समय और रिटर्न भरते समय आधार का उल्लेख अनिवार्य बना रहेगा।

देश में 41 करोड़ पैन
सरकार के आंकड़ों के अनुसार, बीते साल सितंबर तक देश में 41 करोड़ पैन जारी किए जा चुके थे। इनमें 21 करोड़ से अधिक को आधार से जोड़ा गया। सुप्रीम कोर्ट ने आयकर कानून की धारा 139AA को सही ठहराया था। इस धारा के मुताबिक 1 जुलाई 2017 को जिस व्यक्ति के पास पैन है और वह आधार पाने के लिए पात्र है।

Back to top button