देश

राबड़ी के मनाने पर भी नही माने तेजप्रताप, ससुर के खिलाफ ही लड़ेंगे चुनाव

लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान होने में भले ही बहुत कम दिनों का समय रह गया हो लेकिन लालू परिवार में अभी भी रूठने मनाने का सिलसिला जारी है. इस कारण पार्टी समेत लालू प्रसाद स्वयं काफी परेशान चल रहे हैं. लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव राजद से काफी नाराज चल रहे हैं. उनको मनाने की काफी कवायदें की जा रही हैं लेकिन सारी कोशिशें अभी तक नाकाम रही हैं. उनको मानाने के लिए माँ राबड़ी देवी ने मोर्चा संभाला लेकिन उनका भी प्रयास असफल रहा है.

गौरतलब है कि तेजप्रताप यादव की नाराजगी अपनी माँ राबड़ी देवी को चुनाव लड़वाने के लिए है. वो चाहते हैं कि सारण लोकसभा सीट से उनकी माँ और पार्टी की वरिष्ठ नेता राबड़ी देवी को चुनावी मैदान में उतारा जाए. तेजप्रताप कहते हैं कि सारण लोकसभा सीट लालू परिवार की पारंपरिक सीट है इसलिए इस सीट पर लालू परिवार का ही कोई उम्मीदवार लडेगा. जबकि आरजेडी ने सारण से तेजप्रताप के ससुर चन्द्रिका राय को अपना उम्मीदवार बनाया है. इस बात को लेकर तेजप्रताप आरजेडी से काफी नाराज चल रहे हैं.

अपनी नाराजगी के दौरान ही तेजप्रताप ने एक नई पार्टी का भी ऐलान कर दिया जिसका नाम उन्होंने अपने माता पिता के नाम पर “लालू-राबड़ी मोर्चा” रखा है. तेजप्रताप ने इस पार्टी की तरफ से आगामी लोकसभा चुनाव के लिए पांच उम्मीदवारों का नाम भी जारी कर दिया है. तेजप्रताप ने इसके साथ ही ऐलान कर दिया है कि यदि उनकी माँ राबड़ी देवी को सारण से प्रत्याशी नही बनाया गया तो वो खुद सारण से अपने ससुर चन्द्रिका राय के खिलाफ चुनावी मैदान में उतरेंगे.

इन सब बातों से यह तो स्पष्ट दिख रहा है कि लालू परिवार के अन्दर एक तरह का अंतर्कलह चल रहा है जिसे लालू परिवार जल्द से जल्द खत्म करना चाहेगा.

Back to top button