‘राम नाम जपना, पराया..’, विधायक खरीद मामले में KCR की बेटी का BJP पर हमला

Kcr Daughter K Kavitha

तेलंगाना में टीआरएस (TRS) विधायकों की खरीद फरोख्त मामले को लेकर मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की बेटी के. कविता ने बीजेपी पर निशाना साधा है. साथ ही उन्होंने भारतीय जनता पार्टी पर टीआरएस के नेताओं को धमकाने और बीजेपी में शामिल होने का आरोप लगाया. तेलंगाना विधान परिषद की सदस्य कविता ने भाजपा पर विपक्षी नेताओं को परेशान करने के लिए केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया.

इसके अलावा उन्होंने कहा कि बीजेपी की पॉलिसी ‘राम नाम जपना, पराया लीडर अपना’ वाली है. येल्लारेड्डी में टीआरएस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कविता ने कहा कि भाजपा केवल एक ही नीति जानती है कि राम नाम जपना, पराया लीडर अपना’. उन्होंने कहा कि खरीद-फरोख्त की कोशिश करते समय भाजपा विपक्षी दलों के नेताओं के उत्पीड़न के लिए केंद्रीय एजेंसियों का उपयोग करती है.

तेलंगाना में भाजपा संगठन में कोई ताकत नहीं

टीआरएस के विधायकों को लालच देने के मामले में जांच कर रही एसआईटी के समक्ष पेश नहीं हुए कुछ भाजपा नेताओं का परोक्ष जिक्र करते हुए कविता ने कहा कि यदि भाजपा ने कुछ गलत नहीं किया है तो समन जारी किए जाने के बावजूद वे जांच एजेंसी से क्यों बच रहे हैं. उन्होंने कहा कि तेलंगाना में भाजपा संगठन में कोई ताकत नहीं है और वे अन्य दलों के नेताओं को शामिल करने के लिए धनबल और बाहुबल का दुरुपयोग कर रहे हैं.

हमें धमकाया नहीं जा सकता.. हम लड़ेंगे और जीतेंगे

कविता ने कहा, ‘हम तेलंगाना के लोग हैं, हमें धमकाया नहीं जा सकता. हम लड़ेंगे, जीतेंगे और हमारी जनता की सेवा में हमेशा रहेंगे.’ अगले साल विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले टीआरएस नेता ने कहा कि उनकी पार्टी के एक के बाद एक लोकप्रिय नेताओं को भाजपा परेशान कर रही है जिनमें मंत्री और सांसद शामिल हैं. बता दें कि टीआरएस विधायकों के खरीद-फरोख्त के कथित प्रयास की जांच कर रही एसआईटी ने संतोष को 21 नवंबर को पूछताछ के लिए बुलाया था. हालांकि, वह कथित तौर पर पेश नहीं हुए थे.

मामले में 3 लोगों को किया गया था गिरफ्तार

पिछले महीने साइबराबाद पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया था. इसके बाद इन तीनों को अदालत में पेश किया गया. इस दौरान पुलिस ने कहा था कि टीआरएस के विधायकों को राज्य सरकार को अस्थिर करने का लालच दिया गया था. पुलिस के मुताबिक, बीआरएस विधायक पायलट रोहित रेड्डी, रेगा कंथाराव, गुव्वाला बलाराजू और बीरम हर्षवर्धन को नकद, चेक और ठेके देने के जरिए खरीदने की कोशिश की गई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here