मौसम LIVE : लखनऊ में छाए बादल, UP के 25 जिलों में आज भारी बारिश

यूपी में मानसून एक्टिव है। बीते 24 घंटे में प्रदेश के 16 जिलों में तीन सेमी से अधिक बारिश हुई है। एक जून से अब तक 235.1 मिमी बारिश रिकॉर्ड हुई, जो सामान्य से 124.9 मिमी कम है।

अगस्त में अच्छी बारिश की उम्मीद है। सात अगस्त के बाद प्रदेश में आंधी-तूफान के साथ बारिश की गतिविधियां देखने को मिल सकती हैं। लखनऊ आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के डायरेक्टर डॉक्टर जेपी गुप्ता ने बताया, ”सोमवार को पूर्वांचल के 25 जिलों में बारिश का अलर्ट जारी किया है। लखनऊ में एक से पांच अगस्त के बीच बारिश हो सकती है।”

पिछले 24 घंटे: बीते 24 घंटे में प्रदेश में 9.5 मिली मीटर बारिश हुई, जो अनुमान से 3% ज्यादा है। न्यूनतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस तो अधिकतम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। कानपुर में कई जगहों पर जल भराव हो गया है। वाराणसी में गंगा का जल स्तर काफी बढ़ गया है। सभी 84 घाट जलमग्न हो चुके हैं और घाटों का आपसी संपर्क पहले ही टूट चुका है।

अगले 24 घंटे: राजधानी लखनऊ में आंशिक बादल छाए रहेंगे। एक या दो बार मामूली बरसात हो सकती है। गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, बहराइच, श्रावस्ती, गोंडा, बाराबंकी, अयोध्या, अमेठी, सुल्तानपुर, रायबरेली, अंबेडकरनगर, प्रयागराज, भदोही, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीरनगर, आजमगढ़, जौनपुर, वाराणसी, गाजीपुर, मऊ, बलिया में बारिश का अलर्ट है। इन जगहों पर आज 5 मिमी से अधिक हो सकती है।

अयोध्या में बूंदा-बांदी से मौसम खुशनुमा हुआ

अयोध्या में सुबह हल्की बूंदाबांदी हुई। राम नगरी में बूंदाबांदी के बाद मौसम खुशनुमा बना हुआ है। सावन मेला में आने वाले श्रद्धालु मौसम का आनंद उठा रहे हैं।आसमान में काले घने बादल छाए हुए हैं। बारिश के चलते सुबह के तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई। सुबह का न्यूनतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग विभाग के अनुसार आगामी 24 घंटों में पूर्वी उत्तर प्रदेश के अधिकांश जिलों में हल्की से मध्यम बारिश होने के आसार हैं।

वाराणसी में रात में हुई 5 मिमी बारिश

वाराणसी में रविवार की बीती रात 5 मिलीमीटर की बारिश हुई। मौसम ठंडा है। अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 33°C दर्ज किया गया। हवा में नमी 98% तक रिकॉर्ड की गई है। हवा की स्पीड 6 किलोमीटर दर्ज की गई। पानी अब घाट किनारे भवनों को छूने लगा है। पानी डेंजर पॉइंट से 4 मीटर और खतरे के निशान से महज 5 मीटर नीचे है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि अभी गंगा नदी में पानी बढ़ेगा।