मौत वाली मिठाईः लखनऊ में रसमलाई खाने से 1 मरा, 8 अस्पताल में भर्ती

लखनऊ में मिलावटी मिठाई खाने से एक की मौत हो गई। एक ही परिवार के 8 लोग अस्पताल में भर्ती हैं, जिसमें 2 की हालत नाजुक है। आलमबाग में एक दुकान से खरीदी गई मिठाई उस समय काल बन गई जब अयोध्या में ब्याही बेटी रक्षाबंधन में राखी बांधने लखनऊ अपने मायके पहुंची। यहां भाई-भतीजे को राखी बांधने के बाद रसमलाई खाने से परिवार के सदस्यों की तबीयत बिगड़ गई।

FSDA टीम ने दुकान से उठाया सैंपल
जहरीली मिठाई खाने से मौत होने की खबर मिलने के बाद खाद्य विभाग की टीम आलमबाग में उस मिठाई की दुकान पर पहुंची। दुकान पर जाकर खाद्य विभाग की टीम ने मिठाई और खाद्य पदार्थ के सैंपल कलेक्ट किए।

पति की मौत और गंभीर हालत में पत्नी हुई भर्ती
मृतक (56) साल के राकेश कुमार गौड़ की मौत बलरामपुर अस्पताल में हुई। इसके अलावा 8 अन्य लोग अस्पताल में भर्ती हैं। इस बीच रविवार देर रात मृतक की पत्नी राजरानी की हालत भी बिगड़ी और उन्हें भी आलमबाग के निजी अस्पताल लेकर पहुंचे। निजी अस्पताल में मरीज की गंभीर हालत को देखते हुए हायर सेंटर रेफर कर दिया गया।

अयोध्या की रीता का लखनऊ में था मायका
अयोध्या की रहने वाली रीता गौड़ रक्षाबंधन के मौके पर अपने मायके पारा थाना के चंद्रोदय नगर निवासी 50 वर्षीय चाचा राकेश कुमार गौड़ के घर आई थी। रीता ने रक्षाबंधन के लिए आलमबाग चौराहे के संजय द मिठाई शॉप से रसमलाई खरीदी। इसके बाद वह राखी बांधने के लिए चाचा के घर गई।

वहां चाचा राकेश, चाचा राजरानी, चचेरे भाई अमित और सुमित को राखी बांधकर व रसमलाई देकर कृष्णानगर अपने पिता राजकुमार गौड़ के घर गई। वहां भाई और पिता को राखी बांधकर लालकुंआ में मामा छोटेलाल के घर रसमलाई लेकर गई।

वही, दूसरी तरफ मिठाई खाने के बाद पिता राजकुमार गौड़, मां ज्ञानवती और मामा छोटेलाल की हालत भी बिगड़ी। सभी को बलरामपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया।

रसमलाई खाते ही चाचा, चाची और भाइयों की तबियत बिगड़ गई। हालत ज्यादा बिगड़ने पर परिजनों ने पड़ोसियों की मदद से तीनों को लेकर तड़के ही निजी अस्पताल पहुंचे। जहां पर एक को अस्पताल में इमरजेंसी से ही रेफर कर दिया। 35 वर्षीय सुमित को भर्ती कर इलाज करना शुरू किया।

इस बीच 108 एम्बुलेंस के जरिए गंभीर हालत में राकेश कुमार गौड़ को परिजन बलरामपुर अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई।देर शाम उनकी पत्नी राजरानी की भी तबियत बिगड़ने पर परिजन उन्हें लेकर आलमबाग के उसी निजी अस्पताल पहुंचे।