दर्द भरी दास्तां: असलम ने अनुज बनकर की शादी, अपने भाई से भी करवाया रेप

उत्तर प्रदेश में लव जिहाद और धर्म परिवर्तन का मामला रुकने का नाम नहीं ले रहा। लड़कियों को बहला फुसलाकर और अपनी पहचान छुपाकर कई मुस्लिम लड़के उनसे संबंध बनाते हैं, फिर बाद में इस्लाम धर्म अपनाने का दबाव बनाते हैं। प्रयागराज में ऐसा ही एक आंख खोल देने वाला मामला सामने आया है। सोशल मीडिया पर एक युवक ने खुद को हिंदू बताकर लड़की से दोस्ती की। दोनों की दोस्ती प्यार में बदल गई। इस बीच दोनों के संबंध बने और लड़की गर्भवती भी हुई। बाद में अपने प्रेमी की असलियत पता लगने पर पीड़ित लड़की ने विरोध किया तो उसी के साथ गलत सलूक होने लगा। लड़की ने पुलिस को अपनी दर्द भरी दास्तां सुनाते हुए अपने ससुराल वालों के खिलाफ तहरीर दी है।

लव जिहाद का यह मामला कर्नलगंज थाना क्षेत्र के मम्फोर्डगंज इलाके का है। बलिया की रहने वाली नर्सिंग छात्रा की प्रयागराज के सोनू उर्फ अनुज प्रताप सिंह से सोशल मीडिया के जरिये दोस्ती हुई। युवती जब बीमार होती तो सोनू उसकी मदद के लिए आ जाता। जब लड़की को काशी विश्वनाथ दर्शन के लिए जाना था, तब भी सोनू उसके साथ गया था। धीरे-धीरे दोनों की दोस्ती प्रगाण होती चली गई। सोनू ने लड़की को शादी का झांसा दिया और रामबाग स्थित एक होटल में ले जाकर उसके साथ संबंध बनाए। लड़की गर्भवती हुई तो उसका गर्भपात कराया। यह भी आरोप है कि सोनू ने उससे शादी के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए कहा और फिर अपने साथ रजिस्ट्रार दफ्तर ले गया। दोनों ने कोर्ट मैरिज कर ली। पुलिस की जांच में युवक ने रजिस्टर में भी अपना नाम सोनू उर्फ अनुज प्रताप सिंह ही लिखा है।

पुलिस के अनुसार, लड़की को शादी के बाद पता चला कि अनुज हिंदू नहीं बल्कि मुसलमान है और उसका नाम मोहम्मद असलम है। फिर क्या था, लड़की ने विरोध किया तो उस पर धर्म परिवर्तन का दबाव बनने लगा। उसने मना किया तो उसे एक कमरे में बंधक बाकर मारा पीटा गया। यह भी आरोप है कि अनुज उर्फ असलम और उसके भाई नूर आलम ने उसके साथ दुष्कर्म किया। किसी तरह उनके चंगुल से खुद को बचाकर वह बाहर निकली और पुलिस में अपने शौहर और देवर के खिलाफ तहरीर दी।

कर्नलगंज पुलिस के अनुसार, पीड़ित छात्रा ने दो वर्ष पूर्व सिविल लाइंस थाने में दीपक पाल के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था। उसमें दीपक पाल जेल में बंद है। तहरीर के आधार पर सामूहिक दुष्कर्म मुकदमा दर्ज कर विवेचना की जा रही है। साथ ही पुलिस ने बताया कि अभी तक जांच में विवाह रजिस्टर में अधिवक्ता ने अपना नाम सोनू ही दर्ज किया है।