ऋचा चड्ढा ने सेना के लिए ऐसा क्या बोला, जो भड़क गए अक्षय कुमार!

एंटरटेनमेंट डेस्क, Akshay Kumar’s big attack on Richa Chadha’s tweet ।  बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार ने एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा के ‘Galwan says hi’  ट्वीट पर रिएक्ट किया है। खिलाड़ी कुमार ने कहा कि वह उनके इस तरह के विचार से “आहत” हुए हैं। इंडियन ऑर्मी  के  सपोर्ट में बोलते हुए, कुमार ने कहा कि ‘हम हैं क्योंकि वे हैं’।

एक ट्वीट में, अक्षय कुमार ने कहा, “यह देखकर दुख होता है। कभी भी हमें अपने सशस्त्र बलों के प्रति अहसान फरामोश नहीं होना चाहिए। वो हैं तो आज हम हैं।”

ऋचा चड्ढा ने मांगी माफी

ऋचा चड्ढा को भारतीय सेना पर तंज कसने और भारत और चीन के बीच 2020 के गलवान संघर्ष में जवानों के बलिदान को कमतर आंकने की वजह से विरोध का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि एक्ट्रेस ने माफी मांग ली है बावजूद इसके विवाद थमा नहीं है। बॉलीवुड एक्टर  का ट्वीट ऋचा चड्ढा के कई लोगों द्वारा आलोचना किए जाने के कुछ घंटों बाद सामने आया। भारतीय सेना का मजाक उड़ाने के उनके कथित प्रयास के लिए  आलोचना की गई है। अपने माफीनामे वाले ट्वीट में चड्ढा ने कहा, ‘ मेरा इरादा सेना के खिलाफ नहीं हो सकता है, अगर तीन शब्दों, जिन्हें किसी विवाद में घसीटा जा रहा है, इससे किसी को ठेस पहुंची है , तो मैं माफी मांगती हूं और यह भी कहती हूं कि इस विवाद से मुझे भी दुख हुआ। अनायास ही मेरे शब्दों ने फौज (सेना) में मेरे भाइयों की भावना को ठेस पहुंचाई है, जिसमें मेरे अपने नानाजी एक शानदार हिस्सा रहे हैं।”

 लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी के बयान पर कसा था तंज 

लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी के बयान से संबंधित एक ट्वीट  भारतीय सेना पीओके को वापस  हासिल करने के आदेश का इंतज़ार कर रही है, इस पर ऋचा चड्ढा ने तंज किया था। एक्ट्रेस ने इस ट्वीट को  आड़े हाथों लेते हुए कहा था कि ‘Galwan says hi’।

फिल्म मेकर ने किया विरोध

इस बीच, फिल्म निर्माता अशोक पंडित ( Ashoke Pandit ) ने  ऋचा के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। मुंबई के जुहू पुलिस स्टेशन में दायर शिकायत में  उनके के ट्वीट को ‘आपराधिक कृत्य’ ( criminal act ) बताते हुए उसकी निंदा की है। वहीं पंडित ने ऋचा के खिलाफ प्राथमिकी ( First Information Report )  दर्ज करने की मांग की गई है। शिकायत में कहा गया है, “ऋचा चड्ढा ने हमारे सुरक्षा बलों का मजाक उड़ाया है और उनका अपमान किया है, खासतौर पर उन लोगों का जिन्होंने गलवान घाटी में अपनी जान गंवाई। यह एक आपराधिक कृत्य है… प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए।”