धर्म

रविवार : आज बुध बदलेगा अपनी चाल, इन राशिवालो के बनेंगे बिगड़े हुए काम

Image result for बुध ग्रह बदलेगा अपनी चाल

ग्रहों के राजकुमार और सौम्य ग्रह बुध 2 जून को अपनी चाल बदलेंगे। बुध मिथुन राशि में 1 जून की रात 12.19 बजे प्रवेश करेग यानी 2 जून से प्रभावित होगा। मिथुन में बुध 21 जून को सुबह 2.30 बजे तक रहेगा इस दरमियान बुध मिथुन राशि में त्रिग्रही योग बनाएगा । इसमें पहले से मंगल व राहु विधमान है इसके बाद दो दफा चतुग्रही योग्य भी बनेगा।

इस संबंध में ज्योतिषीय गणना के मुताबिक फिलहाल बुध का राशि परिवर्तन हुआ है वे अपने वैचारिक शत्रु मंगल की राशि में से मित्र शुक्र की राशि वृष में पहुंच गए हैं । इसके बाद वे अपने घर मिथुन राशि में 2 जून को आएंगे । बुध इस समय अपने साथ सूर्य को लेकर वृष राशि में बुध्दादित्य योग के साउथ गोचर कर रहे हैं। ज्योतिषगणना के अनुसार मिथुन राशि में बुध मंगल व राहु का त्रिग्रही योग 4, 5 व 6 जून तक रहेगा फिर गोचर में मिथुन राशि के चंद्रमा भ्रमण से चतु ग्रही योग बनाएंगे ।

अर्थात एक ही राशि मिथुन में चंद्र मंगल बुद्ध और राहु होंगे इसके बाद 15 से 20 जून के मध्य मिथुन राशि में सूर्य मंगल बुध और राहु भी चतुग्राही योगी से रहेंगे । ऐसे योग्य ज्योतिष गणना में बहुत कम देखने को मिलते हैं जब एक ही माह में त्रिग्रही व दो बार चतु ग्राही योग बन रही हो इन उद्योगों में जन्म लेने वाले जातक की कुंडली में भी यह योग विद्यमान रहेंगे। पंडित नीरज महाराज के अनुसार इस समय राशि परिवर्तन से बुद्धादित्य योग व गुरु के साथ बुध का समस पता कि योग बना है ।

इससे व्यापार जगत व शिक्षा जगत को लाभ होगा उन्होंने बताया कि बुध चंद्र राशि से दूसरे, तीसरे,छठे, सातवें, दसवें और ग्यारहवें भाव में गोचर करते हैं तो अच्छे परिणाम देते हैं। बुध की अपनी राशि मिथुन व कन्या होती है। वह अपनी राशि कन्या में उच्च के होते हैं जबकि गुरु की राशि मीन में नीव के होते हैं। भूत का अपना नक्षत्र अश्लेषा ज्यष्ठा और रेवती है।

यह पड़ेगा राशियों पर असर

मेष: आर्थिक उन्नति स्वास्थ्य लाभ

वृष: मित्रों से विरोध अपयश

मिथुन: व्यर्थ विवाद प्रतिष्ठा में कमी

कर्क: व्यर्थ की चिंता खर्च अधिक

सिंह: व्यापार कुशल वाकपटुता से लाभ

कन्या: यात्रा योग धन लाभ

तुला: धन संतान संबंधी लाभ

वृश्चिक: रू पीड़ा दूसरे के क्रोध का शिकार

धनु: वस्त्र आभूषण लाभ

मकर: स्वास्थ्य में लाभ

कुंभ:  सचित धन वृद्धि प्रयासों में सफलता

Back to top button