राजनीति

सबसे नया सर्वे : NDA को कितने वोट मिलेंगे, बहुमत के कितने करीब UPA ?

क न्यूज एजेंसी ने 2019 लोकसभा चुनावों को लेकर चुनावी सर्वे किया है. इस सर्वें में एनडीए को बहुमत के आंकड़े तक पहुंचाया गया है. भाजपा की अगुवाई वाले एनडीए के लिए चुनाव पूर्व गठबंधन राष्ट्रीय स्तर पर 42 फीसदी वोट हासिल करने में मदद करेगा, जबकि कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए को चुनाव पूर्व गठबंधन से 30.4 फीसदी वोट प्राप्त होगा.

‘सीवोटर स्टेट ऑफ द नेशन मार्च 2019 वेव 2’ जनमत सर्वेक्षण को 24 मार्च को जारी किया गया. ये सर्वे सप्ताह के 10,280 के नमूना सर्वेक्षण और एक जनवरी से 543 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के 70,000 उत्तरदाताओं के संग्रह पर आधारित है.

एनडीए चुनाव में बढ़त बनाने के लिए भाजपा के राष्ट्रवाद के बयान का सहारा ले रहा है. जबकि इसने अपने कार्यकाल में रोजगार के अवसर बढ़ाने, कृषि संकट दूर करने व अर्थव्यवस्था में वृद्धि की बात कही थी, लेकिन राष्ट्रवाद इसका मुख्य आधार बना हुआ है. एनडीए को वोट शेयर अनुमानों में प्रमुख राज्यों में प्रतिद्वंदियों पर फायदा मिलता दिख रहा है. उत्तर प्रदेश में एनडीए को 35.4 फीसदी वोट पाने की संभावना है. उत्तर प्रदेश में कांग्रेस महागठबंधन का हिस्सा नहीं है.

ऐसा तब है जब सीवोटर जनमत सर्वेक्षण में राजग को 2014 की तुलना में बहुत कम सीटें मिलने के संकेत हैं. बिहार में एनडीए का वोट शेयर 52.6 फीसदी रहने की उम्मीद है. राजस्थान में एनडीए को 50.7 फीसदी मत मिलने की उम्मीद है, जबकि भाजपा के मजबूत गढ़ गुजरात में सीवोटर जनमत सर्वेक्षण का कहना है कि राजग का वोट शेयर 58.2 फीसदी रहेगा.

वोट शेयर अनुमानों के अनुसार, महाराष्ट्र में एनडीए का वोट शेयर 48.1 फीसदी, जबकि भाजपा शासित हरियाणा में एनडीए का वोट शेयर 42.6 फीसदी रहने की संभावना है. चुनाव से पहले गठबंधन के आधार पर राजग के लिए सीट शेयर के अनुमानों से पता चलता है कि सदन में 261 सीटों के साथ यह बहुमत से दूर रहेगी. इससे पहले 10 मार्च के सीवोटर जनमत सर्वेक्षण में यह संख्या 264 थी. दूसरा सर्वेक्षण दिखाता है कि भाजपा अपने बूते पर 241 सीटें हासिल करेगी. हालांकि, चुनाव बाद गठबंधन से यह बहुमत के आंकड़े 272 को पार कर सकते हैं.

Back to top button