उत्तर प्रदेश

नेताजी से हुआ सवाल, कितनी सीटों पर दौड़ेगा माया का हाथी, दिया ये जवाब

समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव मैनपुरी से चुनावी मैदान में उतरने के ऐलान के बाद सोमवार को नामांकन दाखिल कर दिया। मुलायम सिंह ने 1996 में पहली बार मैनपुरी से लोकसभा चुनाव का चुनाव लड़ा था और जीत कर अपनी केन्द्रीय राजनीति की शुरुआत की थी। इससे पहले यहां से जनता पार्टी के उदय प्रताप सिंह सांसद थे, जो पहले जनता दल से भी सांसद चुने गए थे।
मैनपुरी से चार बार सांसद रहे हैं मुलायम
मुलायम सिंह पहली बार मैनपुरी से 1996 में सांसद बने तब से लेकर आज तक मैनपुरी सीट सपा के कब्जे में है। मुलायम सिंह मैनपुरी से चार बार सांसद रह चुके हैं। वर्ष 2014 में भी मुलायम सिंह मैनपुरी और आजमगढ़ लोकसभा सीट से चुनाव जीते लेकिन बाद में मुलायम ने मैनपुरी सीट से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद हुए उपचुनाव में सपा के तेज प्रताप यादव जीतकर संसद पहुंचे। इस सीट पर पांच बार कांग्रेस, एक बार प्रजा सोसलिस्ट पार्टी, एक बार लोकदल, एक बार जनता दल और दो बार जनता पार्टी का कब्जा रहा।
नेताजी से पूछा गया एक अहम सवाल 
इस बीच मुलायम सिंह यादव ने पर्चा भरने के बाद समाजवादी पार्टी के यूपी में सबसे ज्यादा सीटें जीतने की बात कही। मगर जब उनसे बसपा को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने इसका कोई जवाब नहीं दिया। यहां तक कि एक बार भी उन्होंने बीएसपी का नाम नहीं लिया। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी यूपी में सबसे बड़ा दल होगी, लेकिन बीएसपी के नाम पर पूरी तरह चुप्पी साध ली। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी को यूपी में बहुमत मिलेगा, लेकिन बीएसपी का आंकड़ा पूछने पर नेताजी ने कुछ नहीं कहा।
बेटे अखिलेश भी थे पिता के साथ 

नामांकन दाखिल करने के दौरान समाजवादी पार्टी की बस पर सवार होकर आए मुलायम सिंह यादव के साथ एसपी के चीफ अखिलेश यादव मौजूद थे। इसके अलावा समाजवादी पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव और उनके बेटे अक्षय यादव भी मौके पर मौजूद थे। हालांकि समाजवादी पार्टी से अलग होकर अलग दल बनाने वाले मुलायम सिंह यादव के छोटे भाई शिवपाल मौके पर मौजूद नहीं थे। बता दें कि खुद शिवपाल यादव फिरोजाबाद सीट से रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय के मुकाबले चुनावी समर में उतर रहे हैं।

शिवपाल यादव के फिरोजाबाद लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल करने को लेकर पूछे गए सवाल पर मुलायम सिंह ने कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि इस तरह के सवाल मत पूछो। मुलायम सिंह यादव मैनपुरी सीट से 1996, 2004, 2009 और 2014 में चुनाव जीत चुके हैं। यदि इस बार वह चुनावी समर में जीत हासिल करते हैं तो पांचवीं बार यहां से लोकसभा पहुंचेंगे।

एसपी संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने भले ही बीएसपी को लेकर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया हो, लेकिन मैनपुरी लोकसभा सीट पर मायावती प्रचार करने वाली हैं। एसपी और बीएसपी ने संयुक्त रैलियों के जो 11 कार्यक्रम तय किए हैं, उनमें से एक आयोजन मैनपुरी में होना है।

Back to top button