उत्तर प्रदेश

बुआ-बबुआ के गठबंधन पर अमर सिंह का खतरनाक बयान, मचा सियासी घमासान..

amar singh on sp-bsp alliance

लखनऊ : आगामी लोक सभा चुनाव के पहले सियासी माहौल गरमा गया है. सभी राजनीतिक पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है. हाल में ही सपा-बासप गठबंधन के बाद यूपी में भाजपा के लिए एक बड़ी परेशानियो का दौर शुरू हो गया है. इस बीच कांग्रेस ने भी अकेले यूपी में 80 सीटो पर  चुनाव का ऐलान कल यानि रविवार को कर दिया है. इसी साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी नेताओं का मिलना-जुलना जारी है. महागठबंधन की एकता को बढ़ाने के लिए पिछले कुछ दिनों में कई तरह के समीकरण सामने आए हैं.  उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से बसपा-सपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, जबकि 2 सीटें अन्य पार्टी के लिए छोड़ी गई है. वहीं, अमेठी-रायबरेली सीट को कांग्रेस के लिए छोड़ा गया है.

आगे उन्होंने हाल ही में सपा-बसपा के चुनावी गठबंधन पर राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने अपनी तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि गठबंधन तो ठीक है लेकिन मायावती के द्वारा मुलायम पर किए गए मुकदमे का अब क्या होगा। बता दें कि राज्यसभा सांसद अमर सिंह मकर संक्रांति के मौके पर स्नान के लिए हरिद्वार पहुंचे हुए थे। यहां पर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने ये बातें कहीं।

अमर सिंह ने आगे कहा कि गेस्ट हाउस कांड मामले में जो मायावती ने अखिलेश यादव पर मुकदमा दायर किया था उसका अब क्या होगा। गठबंधन से कुछ होने वाला नहीं है क्योंकि सपा और बसपा दोनों ऐसी पार्टियां हैं जो अपने-अपने वजूद की लड़ाई लड़ रहे हैं, इसी कारण दोनों ने गठबंधन किया है। बीजेपी पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा।

और आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत के लिए प्रार्थना की। इसके अलावा पीएम नरेंद्र मोदी के फिर से सत्ता में आने के लिए पूजा-अर्चना भी की।

राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने इतना तक कहा कि लोकसभा चुनाव 2019 का परिणाम चाहे जो भी हो, लेकिन इसमें मोदी और उनकी नीतियों की ही जीत होगी। साथ ही मुलायम सिंह यादव पर तंज कसते हुए अमर सिंह ने कहा कि वे बिना हाथी की सवारी किए बिना अपना अस्तित्व नहीं बचा सकते।

इतना ही नहीं सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव के चाचा और सपा के बागी नेता शिवपाल को अमर सिंह ने पार्टी की रीढ़ कहा। अंत में अमर सिंह ने कहा कि मेरी प्रतिबद्धता मोदीजी के साथ है, बहुत राजनीति कर ली अब राष्ट्रनीति करुंगा।

Back to top button