देश

MP के 4 बड़े शहरों में 4,511 नए केस, 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओ पर हुआ ये फैसला

मध्य प्रदेश में भी कोरोना से हालत बहुत बिगड़ गए हैं। लगभग हर शहर के अस्पताल बेड और ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं। बीते 24 घंटे में प्रदेश के चार बड़े शहरों में 4,511 नए मरीज मिले हैं। 24 मौतें हुई हैं। एक दिन पहले 4,136 मरीज मिले थे और 21 मौतें हुई थीं। कोरोना संक्रमण के चलते 10वीं -12वीं की बोर्ड परीक्षाएं एक माह टाल दी गई। यह परीक्षाएं 30 अप्रैल से शुरू होना थी, जो जून में होगी। संशोधित परीक्षा कार्यक्रम जारी किया जाएगा।

इंदौर में सबसे ज्यादा 1,611 नए केस आए और 6 संक्रमितों ने जान गंवाई। भोपाल में 1,497 मरीज मिले और 4 मौतें हुईं। ग्वालियर में सबसे ज्यादा 9 मौतें हुईं और 801 नए केस मिले। यहां टेकनपुर ट्रेनिंग सेंटर में बीएसएफ के 72 जवान और अफसरों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जबलपुर में 601 नए केस, 5 मौतें हुई हैं।

कोरोना संक्रमण बढ़ने के साथ ही कोरोना कर्फ्यू का दायरा भी बढ़ता जा रहा है। अब तक प्रदेश के 52 में से 23 जिलों में लॉकडाउन जैसी पाबंदियां लगाई जा चुकी हैं। हालांकि, इस बार इसे कोरोना कर्फ्यू कहा जा रहा है। मंगलवार शाम डिंडौरी, धार, होशंगाबाद, ग्वालियर में कोरोना कर्फ्यू लगाया गया। प्रदेश में बोर्ड परीक्षाएं टाल दी गई हैं। स्कूल बंद कर दिए गए हैं।

राज्य में नए संक्रमितों का आंकड़ा 9,000 के करीब
राज्य में मंगलवार को 8,998 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। 4,070 लोग रिकवर हुए और 40 की मौत हो गई। अब तक यहां 3.53 लाख लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 3.05 लाख लोग ठीक हो चुके हैं। 4,261 मरीजों की जान चली गई। 43,539 मरीजों का इलाज चल रहा है।

इंदौर: नहीं मिल रहे बेड, मरीज भटक रहे
इंदौर में लगातार दूसरे दिन नए केसों का आंकड़ा 1500 से ज्यादा रहा। 1611 नए केस आए। 6 मरीजों की मौत भी हो गई। यहां एक्टिव मरीज अब 9275 हैं, जबकि कुल मरीज 82597 हैं। पॉजिटिव दर 20.7% है। हालात यह हैं कि सभी बड़े अस्पतालों में बेड फुल हो चुके हैं।

समय पर इलाज न मिलने की वजह से नारकोटिक्स एसआई पन्नालाल चौहान के 36 वर्षीय बेटे की मौत हो गई। पिता का आरोप है कि बेटे को लेकर वे तीन अस्पताल भटके, लेकिन इलाज नहीं मिला। चोइथराम अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। बढ़ते मरीजों की संख्या की वजह से राधा स्वामी सत्संग आश्रम में 500 बिस्तरों का अस्थाई सेंटर तैयार किया जा रहा है।

भोपाल: हर दिन बढ़ रहा है आंकड़ा
प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना से स्थिति खराब होती जा रही है। रोज नए केस बढ़ते जा रहे हैं। 24 घंटे में 1,497 नए केस आए हैं और 4 की मौत हुई है। 70 पुलिसकर्मी संक्रमित मिले हैं। शहर में सरकारी आंकड़ों में भले ही 4 मौत बताई जा रही हैं, लेकिन हकीकत इससे अलग जान पड़ती है। भोपाल के भदभदा विश्राम घाट पर ही कल 47 शवों के अंतिम संस्कार कोरोना प्रोटोकॉल से हुए हैं। यहां एक दिन पहले 1,456 केस आए थे। अस्पतालों में व्यवस्था कम पड़ने लगी है। अस्पताल ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं।

ग्वालियर: सारे रिकॉर्ड ध्वस्त, 801 नए केस और 9 मौतें
ग्वालियर में कोरोना संक्रमण ने सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए हैं। 24 घंटे में 3,192 सैंपल में 801 नए संक्रमित मिले हैं। इनमें से 72 संक्रमित BSF टेकनपुर के जवान और अफसर हैं। 29 मरीज जिले के बाहर के हैं, जबकि 9 लोगों की मौत हुई है। एक दिन पहले सोमवार को कुल संक्रमित का आंकड़ा 22 हजार था, जो मंगलवार को 23 हजार क्रॉस कर गया।

कुल मौत का आंकड़ा भी 349 पर पहुंच गया है। लगातार केस बढ़ने के कारण ही शहर में 15 अप्रैल से 7 दिन का कोरोना कर्फ्यू लगाया गया है। इसमें सिर्फ सुबह 9 बजे तक सब्जी और दूध खरीदने के लिए छूट दी गई है।

जबलपुर: 600 से ज्यादा केस आए, किराना दुकानें भी बंद
जिले में मंगलवार को कोरोना ने 600 का आंकड़ा पार करते हुए 602 पर पहुंच गया। इसी के साथ जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 23 हजार से ऊपर पहुंच गई। रिकवरी रेट 84.98 पर आ गया है। एक्टिव केस 3,549 हैं। यानी इन मरीजों का इलाज चल रहा है। महामारी बेकाबू हो चली है, इसलिए पाबंदियों भी बढ़ा दी गई हैं। कलेक्टर ने 15 अप्रैल से शहरी क्षेत्रों में खुल रही किराना दुकानों को भी बंद करने का निर्णय लिया है। किराना दुकानों से सिर्फ होम डिलीवरी ही हो पाएगी।

Back to top button