ख़बरदेश

‘शक्ति’ है किसकी : अंतरिक्ष मिशन को कांग्रेस बताई अपना, जवाब मिला- UPA ने नहीं दी थी इजाजत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को देश को संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने अंतरिक्ष में एक सैटेलाइट को मार गिराया है. पीएम बोले कि भारत ने इस मिशन को ‘मिशन शक्ति’ का नाम दिया है. आज भारत अंतरिक्ष में महाशक्ति बन गया है. पीएम ने बताया कि LEO सैटेलाइट को मार गिराना एक पूर्व निर्धारित लक्ष्य था, इस मिशन को सिर्फ 3 मिनट में पूरा किया गया है.

भारत ने मिशन शक्ति के जरिए अंतरिक्ष में दुनिया की चौथी महाशक्ति बनने की जो उपलब्धि हासिल की है उसपर देश के मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने प्रतिक्रिया दी है. कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हेंडल के जरिए इस उपलब्धि के जरिए भारत सरकार और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) को बधाई दी है.

कांग्रेस ने अपने ट्विटर हेंडल पर लिखा, ‘ हम इस उपलब्धि के लिए ISRO और सरकार को बधाई देते हैं, भारतीय स्पेस कार्यक्रम की स्थापना 1961 में पंडित जवाहर लाल नेहरू ने की थी और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) की स्थापना श्रीमती इंदिरा गांधी के कार्यकाल में हुई, इंदिरा गांधी ने अपनी उपलब्धियों से देश को हमेशा गर्वित किया है.‘

इसके बाद कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने ट्वीट किया, ‘’यूपीए सरकार ने ही ASAT प्रोग्राम की शुरुआत की थी, जो आज सफल हुआ है. मैं भारत के वैज्ञानिकों और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व को बधाई देता हूं.’’ जाहिर है, कांग्रेस इसका क्रेडिट ले रही है. सरकार की ओर से जवाब देने के लिए अरुण जेटली सामने आए.

जेटली बोले कि, ‘जो लोग अपनी नाकामियों के लिए अपनी पीठ थपथपाते हैं, उनको याद रहना चाहिए कि उनसे जुड़ी कहानियों के पद चिह्न बहुत लंबे हैं और कहीं न कहीं ये पद चिह्न मिल ही जाते हैं. ये बहुत समय पहले से हमारे वैज्ञानिकों की इच्छा थी और उनका कहना था कि हमारे पास ये क्षमता है लेकिन उस समय की सरकार हमे ये करने की अनुमति नहीं देती थी.’

 

Back to top button