क्राइम

टाडा के 6 केस, 29 साल रहा फरार, ऐसे पकड़ में आया आतंक का दूसरा नाम ‘कंता वलैतिया’

खालिस्तान कमांडो फोर्स आतंकी कुलवंत सिंह उर्फ कंता वलैतिया को अमृतसर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. काउंटर इंटेलिजेंस टीम ने उसे खुफिया जानकारी के बाद गिरफ्तार किया है.

एडीजी कांउटर इंटेलिजेंस हरकमलप्रीत सिंह खख व डीसीपी मुखविंदर सिंह भुल्लर अनुसार गुप्त सूचना के बाद सीआईए टीम ने जालंधर काउंटर इंटेलिजेंस के अधिकारियों से बात की. सीआईए व काउंटर इंटेलिजेंस टीम ने कंता को अरेस्ट किया.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार वलैतिया पर हत्या, लूटपाट व डकैती के 17 मामले दर्ज हैं, जिनमें 6 मामलों में टाडा लगाई गई है.

कंता वलैतिया केसीएफ के आतंकवादी बलविंदर सिंह बिल्ला का सहयोगी रहा है. कंता के ऊपर कई थानों में टाडा का मामला भी दर्ज है. अमृतसर की अदालत ने कंता वलैतिया को भगोड़ा घोषित किया था. वह 1990 से फरार चल रहा था.

वर्ष 2007 में वलैतिया के भारत आने की जानकारी सामने आई थी, लेकिन वह सुरक्षाबलों की नजरों से बचता रहा. 2013 में उस पर ड्रग्स तस्करी और हथियार रखने का भी केस दर्ज हुआ.

फिलहाल पुलिस कंता के साथियों रतन सिंह, दलजीत सिंह, लैबर सिंह और सुखदेव सिंह को पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही है.

Back to top button