जरा हट केदेश

LPG सब्सिडी पर सरकार का बड़ा ऐलान, आपकी जेब पर होगा ऐसा असर

देश के दूसरे सबसे बड़े खुदरा LPG विक्रेता (LPG vendor) भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) के एलपीजी ग्राहकों को घरेलू गैस पर सब्सिडी (Subsidy on domestic gas) BPCL के प्राइवेटाइजेशन के बाद भी जारी रहेगा. यह आश्वासन केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan ) ने शुक्रवार को दिया. प्रधान ने कहा कि एलपीजी सब्सिडी (LPG subsidy) का भुगतान सभी ग्राहकों को डिजिटल तरीके से किया जाता है. उन्होंने कहा, चूंकि यह उपभोक्ताओं को सीधे भुगतान किया जाता है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि सर्विसिंग कंपनी सार्वजनिक क्षेत्र (public sector) या निजी क्षेत्र (private sector) है. विनिवेश के बाद भी BPCL उपभोक्ताओं के लिए एलपीजी सब्सिडी पहले की तरह जारी रहेगी.

सीधे खाते में आती है सब्सिडी (Subsidies come directly to the account)
यह पूछे जाने पर कि क्या बीपीसीएल के उपभोक्ता कुछ वर्षों के बाद आईओसी (IOC) और एचपीसीएल (HPCL) में स्थानांतरित हो जाएंगे, उन्होंने कहा कि अभी ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है. उन्होंने कहा, जब हम सीधे उपभोक्ताओं (consumers) को सब्सिडी का भुगतान करते हैं, तो स्वामित्व उस रास्ते में नहीं आता है.  BPCL Mumbai (Maharashtra), Kochi (Kerala), Bina (Madhya Pradesh) और Numaligarh (Assam) में प्रतिवर्ष 38.3 मिलियन टन की संयुक्त क्षमता के साथ चार रिफाइनरियों को चलाती है, जो कि भारत की 249.8 मिलियन की कुल प्रोसेसिंग क्षमता का 15.3 फीसदी है.

एडवांस में होता है सब्सिडी का पेमेंट (Subsidy payment is made in advance)
बता दें केंद्र सरकार एक साल में प्रत्येक घर में 14.2 किलो के 12 रसोई गैस सिलेंडर (LPG cylinders) सब्सिडी वाली दर पर देती है. यह सब्सिडी सीधे ग्राहक के बैंक खातों में भेजी जाती है. सब्सिडी का भुगतान एडवांस में किया जाता है और उपभोक्ता इसका उपयोग एलपीजी रिफिल खरीदने के लिए करते हैं, जो केवल oil marketing companies – इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (IOC), BPCL और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL) के डीलरों से बाजार मूल्य पर उपलब्ध हैं. जिस पल में सब्सिडी का उपयोग करके रिफिल खरीदा जाता है, उपयोगकर्ता बैंक खातों में एक और किस्त ट्रांस्फर कर दी जाती है.

सरकार BPCL में हिस्सेदारी बेच रही है (Government is selling stake in BPCL)
सरकार BPCL में प्रबंधन नियंत्रण के साथ अपनी पूरी 53 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच रही है. नए मालिक को भारत की तेल शोधन क्षमता का 15.33 प्रतिशत और ईंधन विपणन का 22 प्रतिशत हिस्सा मिलेगा. यह देश में 17,355 पेट्रोल पंप, 6,159 एलपीजी वितरक एजेंसियों और 256 विमानन ईंधन स्टेशनों में से 61 का मालिक है. देश में 28.5 करोड़ एलपीजी उपभोक्ताओं में से बीपीसीएल 7.3 करोड़ लोगों को सेवा दे रही है.

Back to top button