उत्तर प्रदेशराजनीति

सबसे नया सर्वे: यूपी में महागठबंधन की बल्ले-बल्ले, आधी सीटों पर सिमट जाएगी बीजेपी

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए पहले दौर का मतदान होने ही वाला है. देश अगले 5 साल के लिए अपनी सरकार चुनेगा. चारों ओर सियासी गहमागहमी चरम पर है. हर कोई वोटर्स को अपने पाले में लाने की पूरी कोशिश में लगा है. ऐसे में लगातार अलग-अलग सर्वे एजेंसियां और न्यूज चैनल्स जनता का मूड भांपने के लिए ओपिनियन पोल कर रहे हैं. ऐसा ही एक ओपिनियन पोल हिंदी न्यूज चैनल एबीपी और सर्वे एजेंसी नीलसन ने मिलकर किया है, जिसके नतीजे काफी चौंकाने वाले हैं.

दिल्ली की संसद में पहुंचने का रास्ता वाया यूपी होकर गुजरता है. 2014 लोकसभा चुनाव में भाजपा ने यहां 71 सीटें जीती थी. 71 सीटों की बदौलत एनडीए का आंकड़ा तीन सौ पार हो गया था. अकेले बीजेपी 282 सीटों पर जीती थी, जोकि पूर्ण एक पूर्ण बहुमत आंकड़ा है. लेकिन एबीपी सर्वे के मुताबिक इस बार यूपी में महागठबंधन बड़ी जीत दर्ज कर रहा है, जबकि बीजेपी की सीटें आधी हो रही हैं तो कांग्रेस की सीटें नहीं बढ़ रही हैं.

2014 चुनाव में एनडीए 73 सीटों पर जीता था लेकिन एबीपी के सर्वे की मानें इस बार इस गठबंधन की सीटें आधी हो सकती हैं और एनडीए के कुल 36 सीटों पर ही जीतने की उम्मीद दिखाई दे रही है. वोट शेयर में हालांकि ज्यादा अंतर नहीं दिखाई दे रहा है क्योंकि इस बार एनडीए के 43 फीसदी वोट शेयर हासिल करने की उम्मीद है जबकि 2014 में इसने 43.3 फीसदी वोट शेयर हासिल किया था.

दरअसल इस बार के चुनाव में एसपी-बीएसपी-आरएलडी गठबंधन का फैक्टर बीजेपी की नींद उड़ा सकता है क्योंकि ये राज्य की 42 सीटों पर जीतता दिखाई दे रहा है. इस तरह राज्य की आधी से ज्यादा सीटों पर एसपी-बीएसपी-आरएलडी गठबंधन का कब्जा हो सकता है. वोट शेयर देखें तो सर्वे के मुताबिक अनुमान है कि ये गठबंधन 42 फीसदी वोट शेयर पर कब्जा कर सकता है.

कांग्रेस की अगर बात करें तो 2014 में कांग्रेस 2 सीटें जीती थी और सर्वे के मुताबिक इस बार भी कांग्रेस 2 सीटें ही जीत सकती है. ये 2 सीटें राहुल गांधी की अमेठी सीट और सोनिया गांधी की रायबरेली सीट हैं. हालांकि 2014 के मुकाबले इस बार कांग्रेस के वोट शेयर में थोड़ा इजाफा हो सकता है जो पिछली बार के 7.8 फीसदी से बढ़कर 9 फीसदी हो सकता है.

Back to top button