ख़बरदेश

केजरीवाल को कांग्रेस ने ठहराया विलेन, बोली- इस जिद के कारण नहीं हुआ गठबंधन

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) के बीच तालमेल को लेकर महीनों से पर्दे के पीछे चल रहे नाटक का पर्दाफाश हो गया है. कांग्रेस के नेता पीसी चाको ने अरविंद केजरीवाल की पार्टी के साथ चल रही बातचीत को स्वीकार किया. चाको ने केजरीवाल को विलन बताते हुए कहा कि उनकी जिद के कारण भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ दिल्ली में सीट शेयरिंग नहीं हो सकी.

पीसी चाको ने बताया कि राहुल गांधी ने उन्हें आप के साथ बात करने को कहा था. हालांकि दिल्ली यूनिट इसके लिए तैयार नहीं थी, पर वो मान गए. इसके बाद चाको और केजरीवाल के सहयोगी संजय सिंह के साथ कई दौर की बातचीत हुई.

आप चाहती थी कि दिल्ली के अलावा हरियाणा और पंजाब में भी कांग्रेस सीट शेयरिंग करे. चाको कहते हैं, हर राज्य में राजनीतिक समीकरण अलग होते हैं. दिल्ली एक आदर्श राज्य है जहां दोनों दल हाथ मिला सकते थे. हम समझौते तक पहुंच भ भी गए थे लेकिन आप जिद पर कायम रही.

तय फॉर्मूले के तहर दिल्ली की सात सीटों में चार पर कांग्रेस और तीन सीटों पर केजरीवाल को उम्मीदवार उतारने थे. राहुल और केजरीवाल को करीब लाने की कोशिशें महीना भर पहले ही शुरू हो गई थी जिस दिन शरद पवार के घर पर ममता बनर्जी, केजरीवाल और राहुल एक साथ थे.

लेकिन चुनाव से पहले दिल्ली यूनिट की हेड बनाई गईं शीला दीक्षित ने एक चिट्ठी लिखी. इसमें उन्होंने कांग्रेस आलाकमान से कहा कि आप से समझौता होने पर पार्टी को काफी नुकसान होगा. इसके बावजूद राहुल बीजेपी को हराने के लिए केजरीवाल से हाथ मिलाने को तैयार थे. लेकिन आप हरियाणा और पंजाब में भी डील करने पर अमादा रही.

इसके बाद बातचीत का माहौल खराब हो गया और दोनों दलों ने एकला चलो की रणनीति पर चलने का ही फैसला किया.

Back to top button