क्राइम

LAC पर तनाव को बढ़ाने वाली हरकत किया चीन, PLA को ये आदेश दिए हैं जिनपिंग

चीन और भारत के बीच चला आ रहा लद्दाख सीमा विवाद अभी भी जारी है. इस विवाद के चलते दोनों देशों की सेनाए अपनी-अपनी सीमाओं पर एक दुसरे के खिलाफ मोर्चा सम्हाले हुए हैं. अब ऐसे में चीन से एक बड़ी खबर सामने आई है. खबर ये है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सशस्त्र बलों को वास्तविक युद्ध की परिस्थितियों में प्रशिक्षण को मजबूत करने और युद्ध जीतने की अपनी क्षमता बढ़ाने का आदेश दिया. चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को 2027 तक अमेरिकी सेना के बराबर क्षमता की बनाने की योजना बनाई जा रही है. चीन की इस हरकत से सीमा पर तनाव बढ़ेगा. यह चीन का दोगलेपन का सबूत है. एक तरफ वो सीमा पर तनाव कम करने के लिए भारत से वार्ता कर रहा है तो दूसरी ओर अपने सैनिकों से युद्ध करने की तैयारी करने को भी बोल रहा है.

शी जिनपिंग ने कहा कि सेना को युद्ध जीतने के स्तर वाले अभ्यास पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए. हाल ही में उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि अगर पीएलए खुद को और भी शक्तिसाली बनाने के लिए एक आधुनिक युद्धक शक्ति में बदलना चाहती है. तो उसे आर्टीफिशयल इंटेलीजेंस जैसी अत्याधुनिक तकनीकों को अपनाना चाहिए.

सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) का नेतृत्व करने और लंबे समय से राष्ट्रपति के पद पर आसीन 67 वर्ष के शी जिंग पिंग, सेंट्रल मिलिट्री कमीशन (सीएमसी) के अध्यक्ष भी हैं. जो देश के 20 लाख सैनिकों की क्षमता वाली सेना का सर्वोच्च पद है.

बता दें कि भारत और चीन के बीच 6 महीने पहले यानि कि मई से ही तनाव जारी है और इसे कम करने के लिए करीब आठ दौर की वार्ता हो चुकी है. लेकिन सभी की सभी वार्ता व्यर्थ साबित हुई. क्योंकि चीन अपनी विस्तारवादी नीतियों से बाज आने को तैयार नहीं है और अब भारत उसके आगे झुकने वाला नहीं है.

Back to top button