उत्तर प्रदेशख़बर

अब गूगल मैप देगा कुंभ की सारी जानकारी, श्रद्धालुओं को नहीं होगी परेशानी…

kumbh mela 2019 google map

कुंभनगर(प्रयागराज) । तीर्थराज प्रयाग में मकर संक्रांति के अवसर पर अखाड़ों के प्रथम शाही स्नान के साथ मंगलवार को कुंभ का आगाज हो गया । सुबह के छह बजते ही अखाड़ों के सन्यासी पुरी शान शौकत के साथ पवित्र संगम में पुण्य की डुबकी लगाने लगे। शाही स्नान का यह सिलसिला शाम करीब पांच बजे तक जारी रहेगा। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद और कुंभ मेला प्रशासन द्वारा संयुक्त रूप से तय समय के अनुसार सबसे पहले महानिर्वाणी और अटल अखाड़े के सन्यासियों ने शाही स्नान किया।

कुंभ मेला का आयोजन प्रयागराज, नासिक, उज्जैन और हरिद्वार में किया जाता है। हर बार लाखों-करोड़ों की संख्या में लोग इसका हिस्सा बनते हैं और कई बार तो इन आयोजनों से छोटी-मोटी दुर्घटनाओं की खबरें भी आती हैं। ऐसे में इस साल 2019 में प्रयागराज में आयोजित कुंभ के लिए कड़े सुरक्षा और सुविधा के इंतजामात किए गए हैं। इनमें इस बार की सबसे बड़ी खासियत ये है कि गूगल मैप पर कुंभ मेले की पूरी जानकारी दी जाएगी।

इस सुविधा से यहां जुटने वाली बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं उठानी पड़ेगी। इसके पहले के कुंभ आयोजनों में गूगल मैप की सुविधा लांच नहीं की गई थी, लेकिन इस बार इसकी मदद से यहां उपस्थित श्रद्धालुओं खोने जैसी किसी चीज का डर नहीं रहेगा। गूगल मैप पर श्रद्धालु अपनी हर लोकेशन को ट्रैक कर सकेंगे और अपने सगे संबंधियों की तलाश कर पायेंगे। इसके लिए एक ऐसा सॉफ्टवेयर बनाया जा रहा है जिसपर कुंभ से जुड़ी पूरी जानकारी अपलोड की जाएगी।

60 देशों की आबादी के करीब जुटेंगे श्रद्धालु 
सॉफ्टवेयर में मेला क्षेत्र की मैपिंग के लिए भारत की सर्वेक्षण (एसओआइ) टीम ने मंगलवार को ड्रोन कैमरे से इस पूरे क्षेत्र का सर्वे किया। बता दें कि इस बार प्रयागराज में लगभग 3500 हेक्टेयर में मेला का आयोजन किया गया है जिसमें टेंट सिटी बसाया गया है। यही नहीं इस बार कुल 15 करोड़ श्रद्धालुओं के आने की उम्मीदें जताई जा रही हैं जो करीब 60 देशों की आबादी के बराबर जनसंख्या होगी।

आपदा से निपटने में भी होगी सहूलियत
गूगल मैप के जरिए श्रद्धालुओं को ये सुविधा मिलेगी कि वे अगर मेले के अंदर किसी अस्पताल, किसी शिविर, किसी टेंट तक पहुंचना चाहेंगे तो वे गूगलमैप के जरिए पहुंच सकते हैं। मैप उन्हें पूरा गाइड करेगा। बताया जा रहा है कि थ्रीडी मैप के लॉन्चिंग की तैयारी की जा रही है। गूगल मैपिंग से प्रबंधन टीम को भी काफी सहूलियत मिलेगी। इसकी सहायता से भीड़ प्रबंधन, किसी प्रकार की आपदा से निपटने की कोशिश की जाएगी।

 

Back to top button